" /> संपादक के नाम पत्र…. गाइडलाइन का नहीं हो रहा पालन

संपादक के नाम पत्र…. गाइडलाइन का नहीं हो रहा पालन

व सई-विरार महानगरपालिका व वसई-विरार पुलिस विभाग का ध्यान रिक्शा चालकों व यात्रियों की तरफ केंद्रित करना चाहता हूं। महोदय पिछले कुछ दिनों ने वसई-विरार शहर में कोरोना का ग्राफ बढ़ रहा है। मनपा प्रशासन और राज्य सरकार भयंकर बीमारी कोरोना रोकने के लिए उपाय योजना चला रही है, परंतु वसई-विरार शहर में रिक्शा चालक और यात्री अपनी मनमानी कर रहे है। रिक्शा चालक क्षमता से ज्यादा यात्री लेकर यात्रा कर रहे हैं, वही रिक्शा में बैठे यात्री भी बिना मास्क लगाए पाए जा रहे है। वसई-विरार मनपा और पुलिस प्रशासन से अनुरोध है कि इन रिक्शा चालकों पर कानूनी कार्रवाई करते हुए यात्रियों पर भी दंडात्मक कार्रवाई की जाए, जिससे यात्री मास्क और नियमों का पालन करें। – सुरेंद्र सिंह राज, समाजसेवक, नालासोपारा

ट्रैफिक जाम की बढ़ती समस्या
मैं `दोपहर का सामना’ के माध्यम से ठाणे रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक जाम की समस्या की तरफ ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं कि सुबह से शाम तक रिक्शा चालक लाइन से हटकर आगे आकर सड़क के दोनों किनारे रिक्शा ख़ड़ाकर यात्रियों को बुला-बुलाकर बैठाने के कारण लोगों को पैदल चलना मुश्किल हो जाता है। कई बार शिकायत करने के बावजूद भी रिक्शा चालक अपनी मनमानी करते रहते है जिसके कारण ट्रैफिक जाम से वहां जीवन अस्त-व्यस्त रहता है। सुबह ८.०० से ११.०० बजे तक और शाम ७.०० से रात १०.०० बजे तक ट्रैफिक का बुरा हाल रहता है। ट्रैफिक समस्या होने के चलते लोगों को समय पर न तो रिक्शा मिलता है और यदि मिल भी गया तो मनमानी किराया मांगने के कारण दूसरे रिक्शे की तलाश में अधिक समय चला जाता है।
-अमन कुमार, ठाणे