" /> लेप्टो अलर्ट!, मनपा ने किया मुंबईकरों को सतर्क

लेप्टो अलर्ट!, मनपा ने किया मुंबईकरों को सतर्क

मुंबई में सोमवार से तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हो रही है। इस बारिश में जगह-जगह हुए जलजमाव में लोग पैदल चलते नजर आए। ऐसे में बरसाती पानी में पैदल चलनेवालों पर लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी का खतरा मंडरा सकता है। इसकी संभावना को देखते हुए मनपा ने मुंबईकरों को अलर्ट किया है। अपने अलर्ट में मनपा ने बारिश में पैदल चले लोगों से आह्वान किया है कि यदि उनमें लेप्टो बीमारी के लक्षण पाए जाते हैं तो वे तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें।
बता दें कि लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी चूहे, कुत्ते, घोड़े, आदि जानवरों के मूत्र से होती है। बारिश के दौरान लेप्टो के सूक्ष्म जीवाणु इनके मूत्र के जरिए बरसाती पानी में फैल जाते हैं, जिसके संपर्क में आने से लोग इस बीमारी से ग्रसित हो सकते हैं। विगत २ दिन में मुंबई में भारी बारिश हुई। इस दौरान मुंबई के कई इलाके जलमग्न हो गए थे, ऐसे में संक्रमित पानी से गुजरनेवाले लोगों को अपनी सेहत का खासा ध्यान देने की जरूरत है। मानसून आते ही मानसूनी बीमारी जैसे डेंगू, मलेरिया, लेप्टो लोगों को अपनी जद में लेती है। काफी लोग ठीक हो जाते हैं तो कुछ को अपनी जान भी गंवानी पड़ती है। गत वर्ष जुलाई महीने में कुल ७४ लोग लेप्टो बीमारी से ग्रसित हुए थे, जिनमें से ५ लोगों की मृत्यु हो गई थी जबकि इस वर्ष जुलाई में केवल १४ लोगों में उक्त बीमारी की पुष्टि हुई है। लेप्टो मरीजों की इस वर्ष कम संख्या होने का कारण लॉकडाउन होने की बात मनपा ने कही है।
मनपा की स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मंगला गोमरे ने बताया कि यदि कोई व्यक्ति जलजमाव में अधिक समय तक रहा है और उसे बुखार या अन्य स्वास्थ्य समस्या होती है तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

लेप्टो के लक्षण
लेप्टो के मरीजों में कुछ सामान्य लक्षण में बुखार आना, ठंड लगाना, सिर दर्द, दस्त, पीलिया, पेट दर्द शामिल है। उक्त लक्षण आम बुखार जैसे ही हैं लेकिन लापरवाही न करें और तुरंत मनपा अस्पताल में जाकर डॉक्टर को दिखाएं।

रोकथाम व बचाव
मुंबई में जिस तरह की बारिश हो रही हैं, ऐसे समय में जलजमाव वाले क्षेत्र में न जाएं।
शरीर पर चोट या खरोंच लगी हो तो तुरंत इलाज करवाएं।
घर में पालतू जानवरों को लेप्टो का टिका लगवाएं।
घर के आस-पास स्वच्छता रखें और जल जमाव न होने दें।