फर्राटा भरेगी एलएचबी कोचवाली ट्रेने : १६ ट्रेनों की बनी सूची

पश्चिम रेल ने ट्रैक अपग्रेडेशन के बाद अब एलएचबी कोचवाली एसी ट्रेनों की रफ्तार राजधानी ट्रेन के समानांतर बढ़ाने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए पश्चिम रेल ने अपने जोन में राजधानी रूट पर १६ ट्रेनों की रफ्तार १३० किमी प्रति घंटा करने का एक  प्रस्ताव बनाकर सीआरएस (कमिश्नर ऑफ रेल सेफ्टी) को भेजा है। सीआरएस के निरीक्षण के बाद ये ट्रेनें १३० किमी प्रति घंटा की रफ्तार से फर्राटा भरेगी।
बता दें कि अभी ये ट्रेनें ९० से ११० किमी अधिकतम रफ्तार से दौड़ रही हैं। ट्रैक अपग्रेड हो जाने के बाद एलएचबी आधुनिक कोचवाली ट्रेनें अब १३० किमी रफ्तार से दौड़ने के योग्य हो चुकी हैं, जिसको लेकर पश्चिम रेलवे ने यह प्रस्ताव तैयार कर लिया है। जो ट्रेनें १३० किमी की रफ्तार से दौड़ेंगी उनमें बांद्रा टर्मिनस-सहरसा हमसफर, इंदौर-लिंगमपल्ली हमसफर, अमदाबाद-चेन्नई हमसफर, बांद्रा टर्मिनस-जोधपुर हमसफर, गांधीधाम-तिरुनेलवेल्ली हमसफर, बांद्रा टर्मिनस-जामनगर हमसफर, श्रीगंगानगर-तिरुचिरापल्ली हमसफर, उदयपुर-मैसूर हमसफर है।
ये सभी हमसफर ट्रेनें सूरत में पांच मिनट का ठहराव लेकर अगले स्टेशन के लिए रवाना होती हैं। जबकि मुंबई-इंदौर दुरंतो, मुंबई -जयपुर दुरंतो, मुंबई-दिल्ली दुरंतो, दिल्ली-पुणे दुरंतो, पुणे-अमदाबाद दुरंतो और तिरुवनंतपुरम-निजामुद्दीन राजधानी एक्सप्रेस और मडगांव-दिल्ली राजधानी की भी स्पीड १३० किमी होगी। इनमें दोनों राजधानी का सूरत में ठहराव है।
इन रूट की क्षमता अब १३० किमी प्रति घंटा
ट्रैक अपग्रेडेशन के बाद राजधानी रूट के दायरे में पश्चिम रेल मुंबई सेंट्रल-नागदा, बांद्रा से उधना, वसई से वडोदरा और रतलाम से वसई वाले रूट की क्षमता १३० किमी पर अपग्रेड किया ़गया है, जिसके बाद ये ट्रेनें इन रूटों पर आसानी से १३० किमी की रफ्तार से दौड़ सकेंगी। इसके लिए पश्चिम रेल ने सीआरएस को निरीक्षण करने का निवेदन किया है, जैसे ही निरीक्षण हो जाएगा इन ट्रेनों की रफ्तार १३० किमी प्रतिघंटा हो जाएगी।

आज से बढ़ेगी ७७ ट्रेनों की रफ्तार
भारतीय रेलवे मिशन रफ्तार को बढ़ावा देने की दिशा में आगे बढ़ती नजर आ रही है। रेलवे ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाकर जहां रेल यात्रियों का कीमती समय बचाने में लगी है, वहीं ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने से रेलवे की कमाई में भी इजाफा होगा क्योंकि जिन ट्रेनों की रफ्तार बढ़ेगी, उन्हें सुपरफास्ट ट्रेनों की श्रेणी में डालकर रेलवे अधिक कमाई करने में सफल होगी। इसी कड़ी में रेलवे १ जुलाई से ७७ ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने जा रही है, ये ट्रेनें पश्चिम रेलवे के अंतर्गत चलाई जाती हैं। रेलवे से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पश्चिम रेलवे की ७७ ट्रेनों की गति में ५ मिनट से ११० मिनट तक की वृद्धि होगी। जिन ट्रेनों में वृद्धि होगी, उनमें १९००३ बांद्रा टर्मिनस-भुसावल खानदेश एक्सप्रेस के समय में ३० मिनट की कमी की गई है। वहीं १९६६४ खजुराहो-इंदौर एक्सप्रेस के यात्रा समय में १ घंटा ५० मिनट की कमी की गई है। १५५६४ उधना-जयनगर अंत्योदय एक्सप्रेस के यात्रा समय में ५५ मिनट की कमी की गई है। इसके अलावा मध्य रेलवे की एलटीटी-कोच्युवली एक्सप्रेस, एलटीटी-मडगांव डबल-डेकर एक्सप्रेस, सूरत-सीएसटी एक्सप्रेस आदि ट्रेनों का समावेश है जिनकी रफ्तार १ जुलाई से ब़ढ़ जाएगी।