" /> 6 वर्षीय मासूम ने गुल्लक तोड़कर आयुक्त को दिया कोरोना रोगियों की मदद के लिए दान

6 वर्षीय मासूम ने गुल्लक तोड़कर आयुक्त को दिया कोरोना रोगियों की मदद के लिए दान

कोरोना संकट के दौरान उल्हासनगर की कई सामाजिक संस्थाएं अन्नदान जैसा नेक कार्य करके प्रतिदिन हजारों लोगों की भूख मिटाने में उमपा प्रशासन की सहायता कर रही हैं। उल्हासनगर कैंप नं. 4 के समाजसेवी प्रदीप गोडसे की 6 साल की सुपुत्री कु. समृद्धि प्रदीप गोडसे ने अपने खर्च में से बचाकर गुल्लक में डाले हुए पैसे कोरोना पीड़ित मरीज़ों के इलाज के लिए उमपा आयुक्त सुधाकर देशमुख को सौंपे।
वैसे तो उल्हासनगर में थारासिंह दरबार, अमरबेला झूलेलाल ट्रस्ट तथा शिवभोजन योजना की तरफ से शहर के भूखे लोगों की भूख मिटाने का सराहनीय कार्य किया जा रहा है। इस वैश्विक कोरोना की लड़ाई में समृद्धि नामक 6 साल की मासूम बच्ची ने समाज सेवा की एक बड़ी मिसाल लोगों के सामने पेश की है। समृद्धि ने अपने दैनंदिन खर्च में से बचाकर गुल्लक में जमा रुपए आयुक्त सुधाकर देशमुख को कोरोना के मरीजों के लिए इलाज में खर्च करने के लिए दिए हैं। इतना ही नहीं इसके पूर्व उमपा के कर्मचारी की पतपेढ़ी जिसमें 2000 के करीब सफाई कर्मचारी हैं। पतपेढ़ी की तरफ से आयुक्त राहत कोष में लाखों रुपए का धनादेश पतपेढ़ी के चेयरमैन विनोद केनी दे चुके हैं। समृद्धि द्वारा किए गए इस सेवा कार्य की उल्हासनगर के लोग प्रेरणा ले रहे हैं।