" /> केवल रायगड ही नहीं पूरा महाराष्ट्र सुजलाम् सुफलाम् करेंगे!

केवल रायगड ही नहीं पूरा महाराष्ट्र सुजलाम् सुफलाम् करेंगे!

‘मंगल पर पानी ढूंढ़ने की बजाय गांव-गांव में पानी पहुंचाएंगे’
उद्धव ठाकरे के हाथों न्हावा-शेवा जलापूर्ति योजना का भूमिपूजन

देश को स्वतंत्रता मिले ७५ वर्ष पूरे हो जाएंगे, लेकिन आज भी हम देश में पीने का साफ पानी नहीं दे सकते तो फिर प्रशंसा का कोई मतलब नहीं। ऐसा कहते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि मंगल ग्रह पर पानी ढूंढ़ने की बजाय गांव-गांव में पानी कब पहुंचाएंगे, इस पर पहले ध्यान देना होगा। ऐसे विकास के मार्ग पर जाने की बजाय मूलभूत विकास किया जाए, ऐसी स्पष्ट राय उन्होंने व्यक्त की। पानी का महत्व समझाते हुए उद्धव ठाकरे ने महाविकास आघाड़ी सरकार केवल रायगड ही नहीं, पूरा महाराष्ट्र सुजलाम् सुफलाम् करेगी, ऐसा वचन दिया।
पनवेल तालुका के भोकरपाड़ा में न्हावाशेवा चरण-३ जलापूर्ति योजना का भूमिपूजन कल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हाथों किया गया। इस दौरान उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, नगरविकास व सार्वजनिक निर्माण मंत्री एकनाथ शिंदे, जलापूर्ति व स्वच्छता मंत्री गुलाबराव पाटील, पालकमंत्री अदिति तटकरे, जिला परिषद अध्यक्षा योगिता पारधी, महापौर डॉ. कविता चौतमोल, सांसद श्रीरंग बारणे, सांसद सुनील तटकरे, विधायक बालाराम पाटील, अनिकेत तटकरे, भरत गोगावले, महेंद्र दलवी, महेंद्र थोरवे, जेएनपीटी के अध्यक्ष संजय सेठी, जलापूर्ति व स्वच्छता विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय चहांदे, सिडको के उपाध्यक्ष व व्यवस्थापकीय संचालक डॉ. संजय मुखर्जी समेत जिलाधिकारी निधि चौधरी, पुलिस उपमहानिरीक्षक संजय मोहिते, नई मुंबई पुलिस आयुक्त बिपिन कुमार सिंह, पनवेल मनपा आयुक्त सुधाकर देशमुख, पुलिस उपायुक्त शिवराज पाटील, पुरुषोत्तम कराड आदि उपस्थित थे।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि रविवार को फेसबुक लाइव के माध्यम से मैंने महाराष्ट्र की जनता से संवाद साधा। प्रेम व अधिकार से मैंने कुछ निर्देश दिए। एक तरफ मैंने सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं करने को कहा और आज हम रायगड का यह कार्यक्रम कर रहे हैं, लेकिन यह कार्यक्रम जनता के हित का है और मुख्य रूप से पानी से संबंधित है इसलिए मैं यहां उपस्थित हुआ, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा। कोरोना के नियमों का कड़ाई से पालन करते हुए इस कार्यक्रम का आयोजन करनेवाले आयोजकों का आभार प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि जल ही जीवन है। विकास की कई चीजें हम कर रहे हैं। देश में मेट्रो के कोच बन रहे हैं। कल हमारे राज्य में भी ये कोच बनेंगे। हम कई चीजों का उत्पादन कर सकते हैं, लेकिन पानी का निर्माण नहीं कर सकते, ये सच है इसलिए पानी का संभलकर इस्तेमाल करना जरूरी है, ऐसा भी मुख्यमंत्री ने कहा।