बहन ने दिया आसरा, मंगलसूत्र ले भागा बीमार भाई

गंभीर बीमारी से ग्रस्त मौसेरे भाई की मदद करना दादर निवासी महिला को भारी पड़ गया। उसने इलाज के लिए उसे अपने घर में आसारा दिया लेकिन वह उसका मंगलसूत्र चुराकर चंपत हो गया। मंगलसूत्र वापस पाने के लिए 3 महीने तक मनुहार करके हार गई उक्त पीड़िता ने अंततः अपने भाई के खिलाफ पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करा दी। लगभग महीनेभर की मशक्कत के बाद पुलिस ने बहन का मंगलसूत्र चुरानेवाले भाई को गिरफ्तार किया है।
बता दें कि दादर-पश्चिम के प्रभादेवी इलाके में रहनेवाली कविता (काल्पनिक नाम) का मौसेरा भाई विट्ठल तांबड़े पैर की धमनियों में खिंचाव से होनेवाले रक्त स्राव से सम्बंधित एक गंभीर बीमारी से ग्रस्त है। देर तक खड़े रहने पर विट्ठल के पैर की धमनियों से खून बहने लगता है। विट्ठल उक्त बीमारी के इलाज के लिए इसी साल जनवरी महीने में रत्नागिरी स्थित अपने गांव से मुंबई आया था। इस दौरान वह 5 दिन कविता के घर में ठहरा था लेकिन 20 जनवरी को विट्ठल अचानक लापता हो गया। जाते समय वह कविता का 5 तोला सोने का मंगलसूत्र भी अपने साथ ले गया था। मंगलसूत्र और विट्ठल के गायब होने पर कविता को कुछ गड़बड़ी का अन्देशा हुआ। फोन करने पर विट्ठल अपने बारे में कविता को कुछ भी साफ-साफ नहीं बता रहा था। कविता द्वारा काफी मिन्नतों के बाद विट्ठल ने यह स्वीकार किया कि मंगलसूत्र उसने लिया है और उसने यह भी कहा कि वह जल्द ही वापस लौटेगा और मंगलसूत्र भी लौटा देगा। बताया जाता है कि कुछ दिन बाद विट्ठल लौटा भी और वह अगली बार कविता का मंगलसूत्र साथ लाने का वादा करके चला गया। लगभग 3 महीने तक इंतजार करने और मंगलसूत्र लौटाने के लिए विट्ठल से मिन्नतें करके हार गई कविता नें 3 अप्रैल को दादर पुलिस थाने में विट्ठल के खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी। विट्ठल की गंभीर बीमारी को देखते हुए पुलिस ने भी उसे समझाने का प्रयास किया लेकिन विट्ठल ने मंगलसूत्र नहीं लौटाया। 20 अप्रैल को दादर पुलिस ने विट्ठल को उसके गांव से गिरफ्तार कर लिया। भोइवाडा कोर्ट ने विट्ठल को पुलिस हिरासत में भेज दिया है।