एमबीएमसी के नाले बने अवैध पार्किंग के अड्डे

मीरा-भाइंदर मनपा द्वारा सड़कों के समानांतर बनाए गए बड़े नालों के स्लैब अवैध पार्किंग के अड्डे बन गए हैं। करदाता नागरिकों के करोड़ों रुपए खर्च कर बने इन बंद नालों पर भारी वाहन खड़े किए जाने से नालों के स्लैब को क्षति पहुंच रही है। नालों पर खड़े किए गए वाहनों की वजह से लोगों को आवाजाही में तो दिक्कते होती ही हैं वहीं रात के समय इन वाहनों की आड़ में अनैतिक गतिविधियां भी होती रहती हैं।
भाइंदर-पूर्व के सेवन स्क्वेर स्कूल के पीछे दोनों तरफ सड़क से जुड़े हुए मनपा के बड़े नाले हैं। इन नालों को कांक्रीट सीमेंट के स्लैब और पेवर ब्लॉक से मनपा ने बंद किया है, जिसका उपयोग आमलोग फुटपाथ के रूप में आवाजाही के लिए करते हैं। इन नालों की ऊंचाई सड़क की ऊंचाई के बराबर होने के कारण इन पर खुलेआम बड़ी बसें और टेंपो जैसे भारी वाहन अवैध रूप से पार्किंग किए जा रहे हैं। कुछ दिन पूर्व ही इसी परिसर में एक भारी ट्रक का पहिया नाले पर लगे ढक्कन को तोड़ कर उसमें अटक गया था। इन सब कारणों से मनपा की निजी संपत्ति को क्षति पहुंच रही। वहीं रात के समय इन बड़े वाहनों की आड़ में चरसी, गर्दुुल्ले अपना जमावड़ा जमा लेते हैं, जिससे स्थानीय नागरिकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस संबंध में भाजपा के गटनेता हसमुख गहलोत का कहना है कि नालों पर अवैध पार्किंग और उसकी आड़ में रात को चलनेवाले अनैतिक कृत्यों की लिखित शिकायत पुलिस से की है। उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।
यातायात विभाग के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक जगदीश शिंदे ने बताया कि अवैध पार्किंग के विषय में अभी तक कोई शिकायत उन्हें नहीं मिली है। इसकी जांच कर कार्रवाई की जाएगी।