आरोपियों को जीने का हक नहीं : हैदराबाद कांड पर बिफरीं मेनका

गांधी परिवार की ‘छोटी बहू’ एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी हैदराबाद कांड को लेकर आग बबूला हैं। उन्होंने इस बर्बर वहशियाना वारदात के आरोपियों को फांसी देने की मांग की है। कहा है कि ऐसे वहशियों को इस दुनिया में रहने का हक नहीं। इन दिनों वे सुल्तानपुर के दो दिवसीय दौरे पर हैं।
मीडिया से बातचीत में उन्होंने जम्मू के कठुआ कांड का जिक्र आने पर वे बोलीं कि संसद में इसको लेकर कानून बनाया गया है। जिसका क्रियान्वयन किया जा रहा है। सामाजिक व राजनीतिक जीवन में बढ़ती चारणवृत्ति (चापलूसी) पर भी उन्होंने परोक्ष प्रहार किए। इमिलिया सिकरा गांव में जब कुछ लोग उनके पैर छूने व गुलदस्ते-फूल देने लगे तो बड़ी ही बेबाकी से वे बोल पड़ीं ‘पैर न छुएं, नमस्कार करिए। मुझे अच्छा लगेगा। फूल गुलदस्ते भेंट कर रहे लोगों से उन्होंने कहा कि इसके बजाय एक-एक रुपए दे दो। वो सिक्के हम जरूरतमंदों को दे देंगे। दो दिवसीय दौरे पर आर्इं मेनका ने कूरेभार ब्लॉक के महमूदपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय में बच्चों को स्वेटर बांटे। मेनका ने महिलाओं से पेंशन संबंधित जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिए कि यहां पर वैंâप लगाकर जो पात्रता सूची में आते हों, उनके आवेदन लिए जाएं।