मॉनसून के बाद मिलेगी मेट्रो-६ को रफ्तार

मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अंतर्गत मुंबई शहर में मेट्रो का निर्माणकार्य काफी तेजी से चल रहा है। एमएमआर रीजन में फिलहाल सभी रूट के मेट्रो निर्माण का कार्य प्रगति पर है। लोखंडवाला स्थित स्वामी समर्थ नगर से विक्रोली होते हुए कांजुरमार्ग तक मुंबई मेट्रो-६ का निर्माण कार्य चल रहा है हालांकि मुंबई के सबसे ऊंचे मेट्रो कॉरिडोर के स्टेशन का निर्माण कार्य मॉनसून के बाद रफ्तार लेगा। अब तक मेट्रो-६ से जुड़े कामों पर सरकार २०१.३ करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है जबकि मेट्रो निर्माण में आनेवाले अन्य संसाधनों को हासिल करने की तैयारी में लगी हुई है।
जानकारी के मुताबिक मेट्रो-६ लोखंडवाला स्थित स्वामी समर्थ नगर से कांजुरमार्ग तक होगा। इस एलिवेटेड मेट्रो लाइन की लंबाई १४.४७ किमी है और इस योजना की अनुमानित लागत ६,६७२ करोड़ रुपए है। मेट्रो-६ मुंबई की सबसे ऊंची मेट्रो लाइन होगी जो १३ मंजिल इमारत जितने ऊंचाई से होकर गुजरेगी।
एमएमआरडीए के अधिकारियों के अनुसार मेट्रो-६ के निर्माणकार्य के लिए जिन संसाधनों की आवश्यकता है उनमें एलिवेटेड पिलर की खुदाई से पहले मिट्टी के नमूनों की जांच, वहीं मेट्रो के काम को शुरू करने के जिन बुनियादी चीजों की जरूरत है उसे जुटाने का काम चल रहा है। जानकारी के मुताबिक फिलहाल पिलर की खुदाई के लिए मिट्टी के नमूनों की जांच ३९.४ प्रतिशत पूरी हो चुकी है जबकि मेट्रो के निर्माण में आनेवाले सभी जरूरी संसाधन का काम लगभग २५ प्रतिशत पूरा हो चुका है। वही एलिवेटेड मेट्रो का पिलर तैयार करने के लिए ढांचे का काम ७.८ प्रतिशत पूरा हो चुका है। फिलहाल मेट्रो-६ के सभी १३ स्टेशनों के काम प्रगति पर हैं। अधिकारी का कहना है कि फिलहाल ये काम धीमी गति से चल रहे हैं लेकिन मॉनसून के बाद मेट्रो स्टेशन का निर्माणकार्य और पिलर को तैयार करने का काम तेज गति से शुरू होगा।