" /> यूपी-बिहार में ट्रेनें हो रहीं है 24 घंटे से ज्यादा लेट : दाना-पानी को तरसे रहे हैं प्रवासी मजदूर

यूपी-बिहार में ट्रेनें हो रहीं है 24 घंटे से ज्यादा लेट : दाना-पानी को तरसे रहे हैं प्रवासी मजदूर

मुंबई के कल्याण से गोरखपुर के लिए निकली एक स्पेशल ट्रेन 50 घंटे होने के बाद भी एटा के पास ही पहुंची है जबकि इस ट्रेन को लगभग 36 घंटे में ही गोरखपुर पहुंच जाना चाहिए था। इस ट्रेन में मौजूद लोग दाना-पानी के लिए तरस रहे हैं। ट्रेनों में पंखे और दूसरी सुविधाओं का अभाव है। जानकारों की माने तो अभी ट्रेन गोरखपुर पहुंचने में 10 घंटे लगेंगे।

ट्रेन में सफर कर रहे सैलेंद्र दुबे ने बताया कि हम 20 मई को रात आठ बजे कल्याण से निकले हैं। पिछले 50 घंटे से हम ट्रेन में सफर कर हैं, पर ट्रेन अभी उसरगांव तक ही पहुंची है। ट्रेन रास्ते में दो दो घंटे रुक कर खड़ी हो जाती है। भीषण गर्मी में पीने का पानी नहीं है। छोटे-छोटे बच्चे सफर कर रहे हैं। बच्चे प्यास से व्याकुल हो उठ रहे हैंं। कहीं ट्रेन रुकती है तो यात्री आसपास के गांवों में दौड़कर जाते हैं किसी तरह से पानी लेकर आते हैं। ट्रेन में सफर कर रहे जावेद अख्तर ने बताया कि हमें लगभग 24 घंटे पहले इटारसी में खाना पानी दिया गया। पर खाना देने का तरीका बहुत अजीब था, कोच में खाना फेंक दिया गया, जिससे एक बार छीना-झपटी मच गई। इसके बाद हमारी किसी ने खोज-खबर नहीं ली। ट्रेन के पंखे भी ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। ऐसे में छोटे बच्चे पानी को लेकर व्याकुल हैं। सेंट्रल रेलवे के एक विरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पहले तो यूपी-बिहार से ट्रेनें चलाने की अनुमति नहीं मिली थी, अब जब मिली है तो एक साथ देश भर से ट्रेनें इन राज्यों में पहुंच रही हैं। इतनी ट्रेनें पहुंचने पर राज्य सरकार धीरे-धीरे ट्रेनें खालीं करा रही हैं। ऐसे में बड़े पैमाने पर ट्रेनें कतार में खड़ी हैं। इससे यात्रियों को भारी परेशानी हो रही है।