" /> पश्चिम बंगाल के लिए वसई से चली पहली ट्रेन

पश्चिम बंगाल के लिए वसई से चली पहली ट्रेन

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का माना आभार, दीदी से नाराज

वसई तहसील में पश्चिम बंगाल के रहनेवाले मजदूरों के लिए वसई रेलवे स्टेशन से पहली ट्रेन चलाई गई, जिसमें हजारों मजदूरों ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आभार माना और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जमकर निंदा की।
पश्चिम रेलवे ने शनिवार दोपहर 2 बजे पश्चिम बंगाल के लिए श्रमिक ट्रेन चलाई, जिसमें तकरीबन 1,600 मजबूर अपने गांव के लिए रवाना हुए। वसई तहसील में बड़े पैमाने पर पश्चिम बंगाल के मजबूर रहते हैं। ये मजदूर मुंबई और वसई तहसील में सोना-चांदी, इमिटेशन ज्वेलरी, मांस विक्रेता समेत अन्य काम करते हैं।
नालासोपारा के रहनेवाले तपन दुलाई मूलरूप से पश्चिम बंगाल के निवासी हैं। तपन ने बताया कि नालासोपारा में एक शॉप में काम करते  हैं। लॉकडाउन के कारण काम बंद हो गया। पिछले दो महीने से बंगाल की मुख्यमंत्री से संपर्क कर रहे हैं लेकिन कोई जवाब नहीं मिल रहा है। वसई से पश्चिम बंगाल के लिए ट्रेन चलाए जाने से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आभार माना है और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जमकर निंदा की।
वसई के तहसीलदार किरण सुरवसे ने बताया कि वसई तहसील से पहली ट्रेन पश्चिम बंगाल के लिए रवाना हुई है। तकरीबन 1,600 श्रमिक मजदूरों का वसई-पश्चिम के सनसिटी इलाके में मेडिकल परीक्षण किया गया और मुफ्त टिकट देकर मनपा बस द्वारा मजदूरों को वसई स्टेशन भेजा गया, जहां से श्रमिक ट्रेन से पश्चिम बंगाल के लिए भेजा गया।