वारदात के बाद बदल लेता था ठिकाना : गैंगरेप और ३ लोगों की हत्या का आराेपी ५ साल बाद धराया 

महाराष्ट्र एवं तमिलनाडु में ३ लोगों के क़त्ल एवं गैंगरेप सहित दर्जनभर संगीन वारदातों को अंजाम देने के बाद भी एक शातिर अपराधी ५ साल तक पुलिस को चकमा देने में कामयाब रहा। उक्त आरोपी एक राज्य में वारदात के बाद  दूसरे राज्य में भाग जाता था। मुंबई-ठाणे में गैंगरेप, डकैती और २ लोगों की हत्या जैसी उक्त आरोपी पहचान बदल कर पिछले कई दिनों से कांदिवली में रह रहा था। मुंबई पुलिस क्राइम ब्रांच की यूनिट १२ ने उसे गिरफ्तार किया है।  
बता दें कि आरोपी ने अपने साथियों के साथ मिलकर वर्ष २०१४ में एक हवाला कारोबारी को लूटने की योजना बनाई थी। उसके लिए एक वाहन चुराने की नियत से आरोपी व उसके साथी एक टूरिस्ट वाहन (इंडिका कार क्रमांक एमएच ०४ जीडी २०१७) में यात्री बनकर सवार हुआ था। आरोपी कार से मीरारोड स्थित एक निर्जन स्थान तक गए थे। वहां उन्होंने कारचालक की गर्दन और पेट पर चॉपर से कई वार करके उसे मार डाला और कार लेकर फरार हो गए थे। काशीमीरा पुलिस थाने इस ह्त्या और लोट की शिकायत डाइज हुई थी। बाद में आरोपियों ने आरे पुलिस की हद में स्थित एक मकान पर २६ मई, २०१४ को धावा बोला। उन्होंने वहां रहनेवाले शख्स पर चॉपर से हमला करके उसे घायल कर दिया और घर की महिला से सामूहिक दुष्कर्म करके उसकी वीडियो फिल्म बना ली थी।  उक्त वीडियो फिल्म सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी देकर आरोपियों ने महिला से उसके गहने निकलवा लिए। वारदात के बात गैंग का मुखिया अरमुगम राजा जोतिमनी देवेंद्र उर्फ कुंदुमणि राजा उर्फ पीटा राजा तमिलनाडु भाग गया।  वर्ष २०१९ के मार्च महीने में तमिलनाडु में एक व्यक्ति की हत्या करके पीटा राजा वापस मुंबई भाग आया और पहचान बदल कर कांदिवली-पूर्व स्थित अशोकनगर फ्लाई ओवर के पास रह रहा था। डीसीपी अकबर पठान व यूनिट- १२ के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सागर शिवलकर के मार्गदर्शन तथा पीआई सचिन गवस, अतुल डहाके एवं एपीआई विक्रमसिंह कदम और अतुल आह्वाड की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर जाल बिछाकर पीटा राजा को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के खिलाफ मुंबई, ठाणे एवं तमिलनाडु के विभिन्न पुलिस थानों में हत्या के ३, डकैती के ४, हत्या के प्रयास का एक और गैंग रेप का एक इसी तरह हफ्तावसूली का एक एवं अपहरण के एक मामले सहित कुल ११ मामले दर्ज हैं।