मुंबई ‘सुपरकिंग’

इंडियन इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) १२ का फाइनल मुकाबला रविवार को हैदराबाद के राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच खेला गया। पहले बल्लेबजी करते हुए मुंबई इंडियंस ने कुल १४९ रन बनाए। १५० रन का लक्ष्य भेदने मैदान में उतरी चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ने निर्धारित २० ओवर में १४८ रन ही बना पाई। इस प्रकार मुंबई इंडियंस, इंडियन प्रीमियर लीग के आखिरी रोमांचक मुकाबले में चेन्नई सुपरकिंग्स को एक रन से हराकर सुपरकिंग बन गई। चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से प्रारंभिक बल्लेबाज शेन वाटसन ने आक्रामक बल्लेबाजी करते हुए ८० रन बनाए, पर वह जीत नही दिला पाए।
इसके पहले हैदराबाद के राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए २० ओवर में ८ विकेट गंवाकर १४९ रन बनाते हुए चेन्नई को १५० रनों का लक्ष्य दिया है। मुंबई की तरफ से सबसे ज्यादा ४१ रन किरोन पोलार्ड ने लगाए जबकि रोहित शर्मा ने आज भी धीमी पारी खेली। वहीं हार्दिक पांड्या आज धमाकेदार पारी खेलने में नाकाम रहे और मात्र १६ रन बनाकर ही पेवेलियन लौट गए।
मुंबई की शुरुआत शानदार रही और टीम ने ५ ओवर से पहले ही ४५ रन बना लिए थे लेकिन क्विंटन डी कॉक के आउट होने के बाद टीम का रन रेट गिरता चला गया। डी कॉक ४.५ ओवर में शार्दुल ठाकुर की गेंद पर धोनी के हाथों कैच आउट हुए। वह १७ गेंदों पर ४ छक्कों की मदद से २९ रन बनाकर वापस लौटे। अगले ओवर में दीपक चाहर गेंदबाजी करने उतरे और ५.२ ओवर में ही कप्तान रोहित शर्मा को धोनी के हाथों वैâच आउट करवा दिया। वह १४ गेंदों पर एक छक्के और एक चौके की मदद से १५ रन ही बना पाए। इसी के साथ ही उन्होंने ये ओवर मेडन भी निकाला। इसके बाद को टीम का रन रेट गिरता ही चला गया और ११ ओवर खत्म होने तक टीम का स्कोर ८० तक ही पहुंच सका। लेकिन ११.२ ओवर में सूर्यकुमार यादव के रूप में मुंबई को तीसरा झटका लगा और जब वह इमरान ताहिर की गेंद पर बोल्ड हुए। सूर्यकुमार ने १७ गेंदों पर एक चौके की मदद से सिर्फ १५ रन ही बनाए।
क्रुणाल पांड्या १२.३ ओवर में ठाकुर की गेंद पर उन्ही के हाथों कैच आउट होकर ७ गेंदों पर ७ रन ही बना पाए और वापस पेवेलियन लौट गए। क्रुणाल के बाद १४.४ ओवर में इशान किशन भी आउट हो गए। उन्होंने ३ चौकों की मदद से २६ गेंदों पर २३ रन बनाए। हार्दिक पांड्या का बल्ला भी कल के मैच अपना कमाल नहीं दिखा पाया और वह १८.२ ओवर में एक छक्के और एक चौके की मदद से १० गेंदों पर १६ रन बनाकर चाहर की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। राहुल चाहर १८.४ ओवर में दीपक चाहर की गेंद पर डू प्लेसिस के हाथों कैच आउट होकर बिना खाता खोले वापस लौट गए। मिशेल मैकक्लेनाघन भी खाता खोलने में नाकाम रहे और डीजे ब्रावो की गेंद पर डू प्लेसिस के हाथों कैच आउट हो गए। अंत में किरोन पोलार्ड (४१) और जसप्रीत बुमराह (०) नाबाद वापस लौटे।
चेन्नई के गेंदबाजों की बात करें तो दीपक चाहर ने २६ रन देकर ३ विकेट हासिल किए। वहीं शार्दुल ठाकुर ने ३७ और इमरान ताहिर ने २३ रन देकर २-२ विकेट टीम को दिलाए। इसके अलावा हरभजन सिंह ने २७, ड्वेन ब्रावो ने २४ और रवींद्र जडेजा ने १२ रन दिए लेकिन वह टीम को विकेट दिलाने में कामयाब नहीं हो पाए।