" /> मुंबई की डबलिंग रेट बढ़कर हुई ३३ दिन, हर वार्ड में हार रहा है कोरोना

मुंबई की डबलिंग रेट बढ़कर हुई ३३ दिन, हर वार्ड में हार रहा है कोरोना

मुंबई सहित देशभर में कोरोना वायरस का संक्रमण सभी के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। ऐसे में मुंबई में इस वायरस को रोकने के प्रयासों में सफलता मिल रही है। एक तरफ जहां अधिकांश इलाकों में इस वायरस के पॉजिटिव मामलों में तेजी से कमी आ रही है, वहीं दूसरी तरफ मुंबई में कोरोना मरीजों के दुगुने होने की समयावधि यानी डबलिंग रेट अब ३३ दिन हो गई है।

बता दें कि मनपा द्वारा कोरोना को हराने के लिए किए गए प्रयासों के सकारात्मक परिणाम दिखने शुरू हो गए हैं और मनपा इस वायरस की चेन तोड़ने में कामयाब हो रही है। मुंबई में इसकी डबलिंग रेट बढ़कर ३३ दिन तक पहुंच गई है। यही डबलिंग रेट गुरुवार को ३० दिन, एक जून को १८ और १० जून को २५ दिन थी। इसके अलावा माटुंगा और सायन में सबसे अधिक अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं, जहां इसकी डबलिंग रेट ६० दिनों तक पहुंच गई है। इसके साथ ही डबलिंग रेट एच/पूर्व वार्ड में ६९ दिन, ई वार्ड में ६१दिन, एम/ पूर्व में ५४ दिन, एल वार्ड में ५३ दिन, बी वार्ड में ४९, जी/ दक्षिण वार्ड में ४८ और ए वार्ड में ४३ दिन दर्ज की गई है।

चेस द वायरस मुहिम हुई सफल
मनपा द्वारा धारावी में `चेस द वायरस’ मुहिम के तहत किए गए प्रयासों से धारावी को कोरोना से बचाने में मदद मिली है। मनपा ने बड़ी संख्या में लोगों की घर-घर जांच कर उन्हें क्वारंटीन किया है और उच्च स्तर पर कांटेक्ट ट्रेसिंग की है, जिससे मुंबई जैसी सघन आबादी वाले शहर में इस वायरस के प्रसार में कमी आई है। जी/ उत्तर वार्ड के अंतर्गत आनेवाले धारावी, माहिम और दादर में कोरोना मरीजों के दुगुनी होने की दर ४४ दिन हो गई हैं।