मुंब्रा बायपास, खतरे का अलार्म भूस्खलन से हड़कंप!

खूनी बायपास के रूप में कुख्यात मुंब्रा बायपास के आसपास भूस्खलन होने से बायपास के पास रहनेवाले निवासियों में हड़कंप मचा हुआ है। बायपास के आसपास भूस्खलन की अब तक कई घटनाएं हो चुकी हैं, जिसमें भारी जान-माल का नुकसान हुआ है। बायपास के आसपास करीब ५० हजार परिवार रहते हैं।
उल्लेखनीय है कि ६ किमी लंबा मुंब्रा बायपास ठाणे और नई मुंबई को जोड़नेवाला मुख्य मार्ग है। बायपास की एक तरफ जहां पहाड़ी शृंखला है तो वहीं दूसरी ओर निचले हिस्सों में शिवाजी नगर, सम्राट नगर, गांवदेवी जैसे अनेक परिसरों में हजारों लोग रहते हैं। पिछले कई वर्षों से बायपास के आसपास भूस्खलन की घटनाएं हो रही हैं। बायपास के निर्माण काल से अब तक बायपास पर हुए भूस्खलन की वजह से दर्जनभर लोगों की मौत हो चुकी है और अनेक झोपड़े तबाह हो चुके हैं। इसी सप्ताह भूस्खलन के चलते गांवदेवी स्थित एक दीवार धरासायी हो गई थी। इस घटना के बाद ही बायपास के पास भूस्खलन होने की आशंका जताई जाने लगी थी। एक दिन पूर्व बायपास के बगल स्थित पहाड़ों से पत्थर खिसने की घटना हुई है। संयोगवश कोई वाहन इसकी चपेट में नहीं आया वरना बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। पत्थर गिरने से घंटों यातायात जाम रहा। मॉनसून के दौरान बायपास के आसपास हुई दोनों घटनाओं की वजह से बायपास के आसपास भूस्खलन होने की आशंका जताई जा रही है। पिछले मॉनसून के दौरान पहाड़ियों से पत्थर टूटकर बायपास से होते हुए बस्तियों पर गिरने की घटना हो चुकी है। इस घटना में कई लोग घायल हो गए थे और उनके झोपड़े जमींदोज हो गए थे।