नशा छोड़ो भाईजान! मस्जिदों से अजान

नशे के दलदल में देश की युवा पीढ़ी धंसती जा रही है, खासकर मुस्लिम युवा। इसे मुस्लिम धर्मगुरुओं ने गंभीरता से लिया है। युवाओं को नशे से बचाने के लिए अब मौलवी खुद सड़क पर उतर आए हैं और जनजागृति मुहिम शुरू की है। इसी कड़ी में अब मुंबई सहित आस-पास महानगरीय इलाकों की प्रत्येक मस्जिदों से नशा विरोधी अजान दी जाएगी, जिसके जरिए मुस्लिम भाईजानों से नशा छोड़ने के लिए अपील की जाएगी।

बता दें कि नशे का जाल तेजी से फैल रहा है, खासकर मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में। इस जाल में फंसे युवा नशे के लिए कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। युवाओं को इस चक्रव्यूह से बचाने के लिए मुंबई सहित ठाणे, नई मुंबई आदि इलाकों में मुस्लिम तंजीमों (संस्था) के साथ मिलकर मुस्लिम धर्मगुरु जनजागृति मुहिम व्यापक स्तर पर चला रहे हैं, जिसके तहत मुंबई के हर इलाकों में नुक्कड़ नाटक किया जा रहा है। इस मुहिम का और विस्तार करने के लिए शुक्रवार को नागदेवी इलाके में विशेष रूप से मौलवियों की एक परिषद हुई है। इस परिषद में मुस्लिम युवाओं को नशे से बचाने के लिए रणनीति तय की गई। मौलाना सैयद मोइनुद्दीन अशरफी ने बताया कि अब मस्जिदों से भी नशे के खिलाफ जनजागृति की जाएगी। जुमे की नमाज के अलावा रोजाना मौलवी अपनी मस्जिदों में नमाज के बाद नशे के सेवन से होनेवाले स्वास्थ्य पर असर, नशे से होनेवाली पारिवारिक तबाही आदि के प्रति युवाओं को जागरूक किया जाएगा। इसके अलावा जो युवक नशे के आदी हो गए हैं, उन्हें सुधरने के लिए पुनर्वसन केंद्र भी भेजा जाएगा।