पवार के सामने ‘राष्ट्रवादी’ राड़ा

एक कहावत है कि ‘पुरुष बली नहीं होत है, समय होत बलवान’। यह कहावत राकांपा अध्यक्ष शरद पवार पर एकदम सटीक बैठती है। जिस शरद पवार के आंख उठाने से राकांपा नेता हो या कार्यकर्ता उसकी बोलती बंद हों जाती थी, आज उसी राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के सामने कार्यकर्ता ‘राष्ट्रवादी’ राड़ा करते रहे और पवार मूकदर्शक बने रहे। बता दें कि लोकसभा चुनाव में राकांपा की करारी हार के बाद शरद पवार आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी में पूरी ताकत से जुट गए हैं। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर गत शुक्रवार से मुंबई प्रदेश कार्यालय में जिलास्तरीय बैठक ले रहे हैं। कल मराठवाड़ा के चार जिलों व मुंबई की बैठक थी। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के समक्ष परभणी जिला की बैठक चल रही थी। पवार जिले की जानकारी ले रहे थे। इसी दरम्यान राजेश विटेकर और विधायक मधुसूदन केंद्रे के कार्यकर्ताओं के बीच वाद-विवाद शुरू हो गया। यह विवाद परभणी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में राजेश विटेकर के पराभव को लेकर शुरू हुआ और विवाद इतना बढ़ गया कि दो नेताओं के कार्यकर्ता हाथापाई पर उतर गए और मारामारी शुरू हो गई। पुलिस ने तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर हस्तक्षेप किया और मामले को शांत कराया। बताया जाता है कि उक्त विवाद सोशल मीडिया पर हुए एक कमेंट के बाद शुरू हुआ, जो हाथापाई तक पहुंच गया। कुछ देर के लिए राकांपा कार्यालय के बाहर पूरा तनाव का वातावरण हो गया था।