" /> लॉकडाउन में घर से निकलने की जरूरत नहीं, डाकिये के माध्यम से घर बैठे अपने बैंक खाते से निकालें पैसे – जिलाधिकारी अनुज कुमार झा

लॉकडाउन में घर से निकलने की जरूरत नहीं, डाकिये के माध्यम से घर बैठे अपने बैंक खाते से निकालें पैसे – जिलाधिकारी अनुज कुमार झा

– एक दिन में 10 हजार रुपए तक की राशि निकालने की सुविधा, कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं
– माइक्रो एटीएम से पैसे की निकासी के समय सोशल डिस्टेंसिंग का रखें विशेष ध्यान

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने जनपदवासियों से अपील की है कि यदि आपका किसी बैंक में खाता है और आप लॉकडाउन के चलते वहां पैसे निकालने के लिए नहीं जा पा रहे हैं, तो निराश होने की जरूरत नहीं है। अब आप घर बैठे अपने इलाके के डाकिये के माध्यम से अपने बैंक खाते से पैसे निकाल सकते हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि भारतीय डाक विभाग के अधीन इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की ‘आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (एईपीएस) सेवा’ के तहत इसका लाभ उठाया जा सकता है। बस आपका खाता आधार और मोबाईल नंबर से लिंक होना चाहिए। इसमें एक दिन में अधिकतम दस हजार रुपए निकाले जा सकते हैं। इसके लिए किसी भी प्रकार का चार्ज नहीं लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जनपद में कुल 380 डाकघरों में माइक्रो एटीएम के माध्यम से पैसे की निकासी का कार्य किया जाता है, जिसमें से आज 39 डाकघरों के डाकियों के माध्यम से घर-घर पैसे की निकासी के लिए विशेष अभियान चलाया गया जिसके तहत इन 39 ग्रामों के 247 लाभार्थियों ने रु. 6 लाख 72 हजार की निकासी की। इसके अतिरिक्त जनपद के 250 ग्राम पंचायतों के डाकघरों से डाकियों द्वारा एटीएम के माध्यम से भी पैसे की निकासी का कार्य किया जा रहा है।

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से विभिन्न सरकारी योजनाओं में सहायता राशि लाभार्थियों को उनके घर पर प्रदान की जा रही है, जिनमें प्रमुख रूप से निक्षय भारत योजना के अंतर्गत टी.बी. के मरीज, प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलाओं, दिव्यांग पेंशन योजना, वृद्धावस्था योजना, किसान सम्मान निधि के लाभार्थी, पंजीकृत श्रमिक, प्रधानमंत्री जन-धन योजना की महिला खाताधारक शामिल हैं।
जिलाधिकारी ने बताया कि यह व्यवस्था लॉकडाउन के दौरान लोगों आर्थिक आवश्कताओं की पूर्ति तथा बैंकों में भीड़ को रोकने की दृष्टि से की गई है, जिसमें ग्राम प्रधानों, ग्राम पंचायत सचिव को संबंधित डाकघर से समन्वय कर सहयोग करने व अधिक-से-अधिक लाभार्थियों को लाभान्वित करने हेतु ग्रामवासियों को इसकी जानकारी देने के निर्देश दिए गए हैं। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने माइक्रो एटीएम से गांव में पैसे के निकासी के समय सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखने तथा इस दौरान लाभार्थियों को मास्क या तौलिया के द्वारा नाक व मुंह को ढंके रहने तथा लाभार्थियों के हाथों को धोने के लिए साबुन व स्वच्छ पानी या सैनिटाइजर की उपलब्धता भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों के अलावा अन्य व्यक्ति भी अपने बैंक खाते से 10,000 तक माइक्रो एटीएम के जरिए निकाल सकते हैं। इसके लिए उनके पास आधार कार्ड होना अनिवार्य है जो कि उनके बैंक खाते से लिंक होना चाहिए, साथ ही माइक्रो एटीएम का प्रयोग करते समय लाभार्थी के पास वह मोबाइल नंबर भी होना चाहिए जो बैंक खाते से जुड़ा है, जिस पर ओटीपी आती है।