" /> नो रिपोर्ट, नो एंट्री!…दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा से आने पर दिखानी पड़ेगी कोरोना की टेस्ट रिपोर्ट

नो रिपोर्ट, नो एंट्री!…दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा से आने पर दिखानी पड़ेगी कोरोना की टेस्ट रिपोर्ट

एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन व सड़क मार्ग से आनेवाले यात्रियों पर नियम हुआ लागू

महाराष्ट्र में कोरोना कहीं फिर से रफ्तार न पकड़ ले, इसे लेकर सरकार ने एक नई गाइडलाइन जारी की है। इसके तहत कुछ सख्त नियम लागू किए गए हैं। इस नियम के अनुसार यदि कोई व्यक्ति अति कोरोना प्रभावित राज्य जैसे दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा से महाराष्ट्र आने की योजना बना रहा है तो उसे पहले कोरोना का ‘आरटी-पीसीआर’ टेस्ट करवाना होगा। एयरपोर्ट, रेलवे या फिर सड़क से यदि आप यात्रा कर रहे हैं तो आपको अपनी निगेटिव रिपोर्ट चेक पॉइंट पर दिखानी होगी। निगेटिव रिपोर्ट दिखाने के बाद ही आपको राज्य में एंट्री दी जाएगी।
गौरतलब है कि दि‍ल्‍ली, गुजरात, राजस्‍थान और गोवा में कोरोना की नई लहर को देखते हुए सरकार ने सावधानी बरतते हुए यह गाइडलाइन जारी की है। इसमें कहा गया है कि इन चारों राज्‍यों से महाराष्‍ट्र में आनेवाले जिन यात्रि‍यों के पास रि‍पोर्ट नहीं होगी, उन्‍हें एयरपोर्ट व रेलवे स्‍टेशनों पर उतरने पर अपने खर्च से यह टेस्ट करवाना होगा। मनपा आयुक्त और जि‍ला अधिकारी नोडल ऑफिसर होंगे, जो लोगों की जांच कराएंगे। इसका अर्थ यह है कि अब इन चार राज्‍यों से कोई भी व्‍यक्ति बिना जांच के महाराष्‍ट्र में एंट्री नहीं ले पाएगा। यह नियम वायु, रेल और सड़क मार्ग से महाराष्ट्र आनेवाले सभी लोगों पर लागू होगा।
हवाई यात्रियों के लिए नियम
-यात्रा के ७२ घंटे के भीतर यात्रियों को अपना आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा।
-यात्रियों को अपनी निगेटिव रिपोर्ट यात्रा के समय साथ में रखनी होगी। बोर्डिंग और डिपार्चर के समय रिपोर्ट चेक की जाएगी।
-एयरपोर्ट अथॉरिटी को यात्रियों की पूरी जानकारी (पता, मोबाइल नंबर आदि) लेनी होगी। इसके बाद ही उन्हें घर जाने की अनुमति मिलेगी।
-किसी यात्री की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर प्रोटोकॉल के तहत उसके उपचार की व्यवस्था की जाएगी।
रेल यात्री के लिए नियम
-यदि आप रेल यात्रा करनेवाले हैं तो आपको आने के ९६ घंटे के भीतर आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा।
-यदि यात्री के पास कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट नहीं है तो रेलवे स्टेशन पर उसके स्वास्थ्य की जांच (बॉडी टेंपरेचर, ऑक्सीजन लेवल) की जाएगी। यदि यात्री में कोई लक्षण नहीं है तो उसे घर जाने दिया जाएगा।
-यदि किसी यात्री में कोरोना के लक्षण दिखते हैं तो उसे अन्य यात्रियों से अलग कर रैपिड टेस्ट किया जाएगा। यदि रिपोर्ट निगेटिव आती है तो उसे घर जाने दिया जाएगा।
-यदि यात्री में कोरोना की पुष्टि होती है तो उसे तुरंत कोविड केयर सेंटर भेजा जाएगा।
सड़क यात्रियों के लिए नियम
-राज्य की सीमाओं पर दूसरे राज्य से आनेवाले यात्रियों की चेक पोस्ट पर स्वास्थ्य जांच की जाएगी। बॉडी टेंपरेचर, ऑक्सीजन लेवल और कुछ स्वास्थ्य से जुड़े सवालों के बाद ही यात्रियों को आगे बढ़ने की अनुमति मिलेगी।