" /> बेड का नो टेंशन!, मनपा ने की कड़ी उपाय योजना

बेड का नो टेंशन!, मनपा ने की कड़ी उपाय योजना

मुंबई में भले ही कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही हो लेकिन इनके इलाज के लिए अस्पतालों में बेड की कमी नहीं होगी। मनपा की कड़ी उपाय योजना के चलते अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर में अभी भी ३२ प्रतिशत बेड रिक्त हैं।
बता दें कि बीते कुछ दिनों से रोजाना करीब २ हजार कोरोना के नए मरीज मिल रहे हैं। कोरोना मरीजों का समय पर इलाज हो, इसके लिए मनपा ने पहले से ही उपाय योजना कर रखी है। मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल पहले ही दावा कर चुके हैं कि मुंबई में २ हजार से अधिक कोरोना के मरीज रोजाना मिले तो भी मुंबई में बेड की कमी नहीं होगी। वर्तमान में मुंबई में १४, ५५९ साधारण बेड, २०३ आयसीयू बेड, २,८१८ ऑक्सीजन बेड और २०० वेंटिलेटर बेड अस्पतालों और कोरोना केयर केंद्रों में रिक्त हैं। १८५ बेड वैंâसर और डायलिसिस मरीजों के लिए रिक्त पड़े हैं।
डबल डिस्चार्ज
शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के २,२११ नए मामले सामने आए। नए मामले की तुलना में कोरोना के दोगुने मरीजों को शनिवार के दिन अस्पताल से डिस्चार्ज दिया गया। पिछले २४ घंटों में कोविड-१९ के ५,१०५ मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई।
स्वस्थ हुए डेढ़ लाख मरीज
मुंबई में ठीक होनेवाले कुल मरीजों की संख्या बढ़कर १ लाख ४२ हजार ७६९ हो गई है। इसके साथ ही शहर में कोविड-१९ के उपचाराधीन मरीजों की संख्या शनिवार को घटकर ३०,५१२ हो गई। अब तक मनपा ने ९.९० लाख नमूनों की कोविड-१९ जांच कराई है। मनपा के अनुसार मुंबई में कोविड-१९ के मामलों में बढ़ोत्तरी की औसतन दर १.२४ प्रतिशत है।