" /> 3 मई तक रेल सेवा रहेगी ठप : 31 जुलाई तक बढ़ी ‘काउंटर’ रिफंड सेवा की अवधि

3 मई तक रेल सेवा रहेगी ठप : 31 जुलाई तक बढ़ी ‘काउंटर’ रिफंड सेवा की अवधि

लोकल, मेल एक्सप्रेस रहेगी बंद

मंगलवार को लॉक डाउन-2 की घोषणा के बाद भारतीय रेलवे ने भी 3 मई तक ट्रेनों का परिचालन स्थगित कर दिया है। इस दौरान केवल मालगाड़ी और जीवनावश्यक वस्तुओ की आपूर्ति के लिए विशेष पार्सल ट्रेन ही चलेगी, जहां तक बात मुंबई की लाइफ लाइन कही जानेवाली लोकल ट्रेन की है तो लोकल ट्रेनों का परिचालन भी 3 मई तक रद्द कर दिया गया है।

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि प्रधानमंत्री के लॉक डाउन की अवधि बढ़ाने की घोषणा के बाद रेलवे बोर्ड में संबंधित अधिकारियों की तत्काल बैठक हुई। उसी में फैसला हुआ कि अब लोगों को रद्द हुई गाड़ियों के टिकट कैंसिल कराने व उसका रिफंड देने के लिए 31 जुलाई, 2020 तक का वक्त मिलेगा। इससे पहले बीते 23 मार्च को रेलवे ने कैंसिल टिकट का रिफंड लेने की समय सीमा को बढ़ाते हुए 3 महीने तक कर दिया था। उससे पहले 72 घंटे के अंदर रिफंड लेना पड़ता था।

ऑनलाइन टिकट का होगा ऑटोमैटिक रिफंड
अधिकारी ने बताया कि लॉक डाउन की बढ़ी हुई अवधि के दौरान जिन यात्रियों ने रेलगाड़ियों का टिकट ऑनलाइन निकाला है, उनके पैसे उसी खाते में चले जाएंगे, जहां से भुगतान किया गया था। यदि किसी ने क्रेडिट या डेबिट कार्ड से भुगतान किया था तो वहीं पैसे जाएंगे।

काउंटर टिकट का कैंसलेशन काउंटर पर ही
जिन लोगों ने यात्रा के लिए काउंटर टिकट कटाया है, उन्हें टिकट कैंसिल करवाने के लिए काउंटर पर ही जाना होगा। लॉक डाउन खुलने के बाद काउंटर पर भीड़ ना बढ़े, इसके लिए टिकट कैंसिल करवाने की समय सीमा 31 जुलाई, 2020 तक बढ़ा दी गई है।

रिफंड को मिल सकता है और समय
रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि जरूरत पड़ने पर रिफंड की आखिरी तारीख को और आगे बढ़ाया जा सकता है। यह कोरोनावायरस के संक्रमण पर कंट्रोल और लॉक डाउन पर निर्भर करेगा।

139 पर कॉल से भी बन जाएगा काम!
टिकट का रिफंड लेने के लिए 139 नंबर पर डायल करना भी काम कर जाएगा, जो लोग ऑनलाइन टिकट नहीं कैंसल करवा सकते हैं, उन्हें इस नंबर पर कॉल करना होगा। हालांकि इस तरीके से रिफंड लेने के लिए उन्हें काउंटर पर जाना ही होगा।