" /> लॉकडाउन में एक लाख वाहन लॉक

लॉकडाउन में एक लाख वाहन लॉक

कोरोना वायरस का कोहराम अभी थमा नहीं है। इसके प्रसार को नियंत्रित करने के लिए ही सख्त लॉकडाउन लगाया गया। हालांकि अब मिशन बिगन अगेन के तहत काफी छूट मिल चुकी है फिर भी सिर्फ आवश्यक होने पर ही बाहर निकलने का अनुरोध किया गया है। मगर लॉकडाउन के दौरान बहुत से ऐसे भी लोग थे जिन्होंने प्रशासन की बात नहीं मानी और अपने वाहन निकालकर घूमते-फिरते रहे। ऐसे लोगों पर पुलिस ने सख्त कार्रवाई की और करीब एक लाख वाहनों को लॉक यानी जप्त कर लिया है।
बता दें कि वायरस संक्रमण के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लागू किया गया है। जरूरी नहीं होने पर घर से ना निकलने को कहा गया है। इसके बावजूद कई लोग ऐसे हैं, जो प्रशासन के नियमों की अनदेखी कर घरों से बाहर निकल रहे हैं। पुलिस ने इन बेवजह बाहर निकल रहे लोगों पर अपना शिकंजा कस रखा है। लॉकडाउन में महाराष्ट्र पुलिस ने गैर जरूरी वाहनों पर कार्रवाई करते हुऐ कई वाहनों का चालान काटा है। चालान से पुलिस को १६ करोड़ ९८ लाख ४३ हजार ८०४ रुपए की कमाई हुई है। इसके साथ ही पुलिस ने सख्त कार्रवाई करते हुए ९४,०७५ वाहनों को जब्त किया है। लॉकडाउन को मार्च के आखिरी सप्ताह में लागू किया गया था। इस दौरान केवल आपातकालीन सेवाओं को मंजूरी दी गई थी, लेकिन इसके बाद भी कई लोग लॉकडाउन को मानने को तैयार नहीं थे। लॉकडाउन में पुलिस ने लगातार कार्रवाई करते हुए अवैध ट्रांसपोर्ट के अब तक १,३४६ मामले दर्ज किए हैं, वहीं ३१,९९५ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। लॉकडाउन का पालन न करने के चलते महाराष्ट्र पुलिस ने आईपीसी की धारा १८८ के अंतर्गत राज्य में २ लाख ९ हजार ३६१ मामले दर्ज किए हैं। डायल १०० पुलिस की तरफ से जारी किया गया आपातकालीन नंबर है। इस नंबर पर राज्य के लोगों ने कोरोना संक्रमण को लेकर पूछताछ के सिलसिले में १ लाख ८ हजार ४४४ कॉल किए हैं।