" /> ओवरफ्लो की कगार तुलसी और विहार

ओवरफ्लो की कगार तुलसी और विहार

मुंबई में पिछले एक सप्ताह में भारी बारिश देखने को मिली, जिसका असर झीलों के जलस्तर पर भी नजर आया। वर्तमान में मुंबई की २ झीलें तुलसी और विहार ओवरफ्लो की कगार पर पहुंच गई हैं। आगामी कुछ दिनों में दोनों झीलें लबालब होती दिखाई देंगी।

बता दें कि मुंबई में तुलसी, विहार, अपर वैतरणा, मध्य वैतरणा, भातसा, मोडक सागर और तानसा झील से रोजाना ३,८०० मिलियन लीटर पानी की आपूर्ति की जाती है। पिछले सप्ताह मुंबई व आस-पास के इलाकों में जमकर बारिश हुई। इस मूसलाधार बारिश का असर मुंबई की दो झीलों विहार और तुलसी पर ज्यादा दिखा। हालांकि ये दोनों झीलें मुंबर्ई की सबसे छोटी झीलें हैं। तुलसी झील की जलस्तर क्षमता ८ हजार ८६ मिलियन लीटर के करीब है, जो कि वर्तमान में ७ हजार ९०० लीटर से ज्यादा भर गई है। इसके अलावा विहार झील की जलस्तर क्षमता १७ हजार मिलियन लीटर यानी ८०.१२ मीटर है और इसमें ७७.९६ मीटर तक पानी भर गया है। दोनों झीलें संजय गांधी नेशनल पार्क में स्थित है। वर्तमान में मनपा द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक मुंबई को जलापूर्ति करनेवाली झीलों में ४ लाख ८ हजार ८८५ मिलियन लीटर पानी जमा है। इन आंकड़ों का आंकलन करें तो इन झीलों में जमा पानी से मुंबई में १०७ दिनों तक बिना कटौती के जलापूर्ति की जा सकती है।