" /> डहाणू किडनी चोरी के अफवाह : गांववालों ने तीन प्रवासियों को उतारा मौत के घाट

डहाणू किडनी चोरी के अफवाह : गांववालों ने तीन प्रवासियों को उतारा मौत के घाट

जिलाधकारी ने जिलावासियों से अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की
पुलिस ने 110 लोगों को हिरासत में लिया
पालघर जिले के डहाणू तालुका कासा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत दादरा-नगर हवेली के बार्डर के पास गड़चिंचले गांव के लोगों ने किडनी और बच्चा चोर समझकर बीती रात तीन प्रवासियों को लाठी, डंडे और कोयते से हमला कर मौत के घाट उतार दिया। घटना की जानकारी कासा पुलिस को मिलते ही घटनास्थल पर पुलिस की टीम जैसे ही पहुंची गांववालों ने पुलिस पर हमला बोल दिया और पुलिस की गाड़ी को बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया। घटना की जानकारी मिलते ही जिले के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह ने अपने दल बल और आस-पास के पुलिस स्टेशन के अधिकारियों साथ मौके पर पहुंचकर इलाके को घेरकर 110 लोगो को गिरफ्तार कर लिया।
जानकारी के अनुसार पालघर जिले के कासा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आनेवाले इलाके दादरा नगर हवेली बार्डर के पास दाभेली खानवेल रोड पर गडचिंचले गांव में बीती रात 9 बजे मुंबई के कांदिवली से इको कार में सवार होकर सूरत जा रहे तीन प्रवासियों की कार को रुकवाकर गांववालों ने उनको चोर, डाकू और किडनी चोर समझकर उन पर लाठी, डंडे, कोयता जैसे हथियारों से हमला बोल दिया। इसकी सूचना कासा पुलिस को मिलते ही तुरंत घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस ने तीनों प्रवासियों को अपनी पुलिस वैन में बैठाकर बचाने की कोशिश की लेकिन इसी दौरान भीड़ ने पुलिस की वैन पर हमला बोल दिया और वैन में बैठे तीनों प्रवासियों को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। भीड़ ने एडिशनल एसपी की गाड़ी पर हमला बोलकर गाड़ी को चकनाचूर कर दिया। चार-पांच पुलिसवाले भी बुरी तरह घायल बताए जा रहे हैं। हमलावारों की संख्या अधिक होने व पूरा इलाका जंगली होने से तुरंत आस-पास के पुकिस स्टेशन तलासरी, डहाणू, बोईसर, मनोर की पुलिस बल टीम ने मौके पर पहुंचकर 110 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं मरनेवाले प्रवासियों कांदिवली के सुशील महाराज और दूसरे जोगेश्वरी के चिकने महाराज और ड्राइवर की पहचान हो गई है, जिनके शव को तलासरी के सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। वहीं इस घटना को गंभीरता से लेते हुए बीती रात से जिले के अधीक्षक गौरव सिंह ने अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर बड़ी मुस्तैदी से मामले को शांत करवाया। ज्ञात हो कि पिछले तीन दिन के भीतर ये दूसरी घटना है। दो दिन पहले कासा के उर्से गांव में गरीबों को अनाज बांटने गए ठाणे के शिवसैनिक व समाजसेवक डॉ. विश्वास वलवी व उनके साथीदारों पर इसी तरह रात में गांववालों ने उनकी कार को रूकवाकर मारा-मारी की और उनकी इंडिका गाड़ी तोड़-फोड़ दी। इसके बाद मौके पर पहुंची कासा पुलिस पर हमलावारों ने पत्थर से हमला कर दिया लेकिन पुलिस के चलते डॉ. वलवी और उनके साथीदारों की जान बची, जिसमें 250 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके 15 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। वहीं लागतार इस तरह की दूसरी घटना ने पूरे जिले को झकझोर के रख दिया है। इस मामले में जिला अधिकारी कैलाश शिंदे ने दुख जताते हुए कहा कि किडनी चोर और बच्चा चोर जैसी गलत अफवाहों का शिकार किसी को नहीं होना चाहिए। साथ ही इस मामले में 110 लोगों को गिरफ्तार करके जांच की जा रही है। इस हादसे में एडिशनल पुलिस सहित चार से पांच पुलिसवालों को भी चोट लगी है। राज्य में लॉकडाउन के चलते जिले में संचारबंदी के बावजूद प्रवासी आखिर कैसे वहां तक पहुंचे इस बात की जांच की जा रही है।