एक हजार वाहनों पर एक पार्किंग

मुंबई में वाहनों की पार्किंग की विकट समस्या है। मुंबई में एक हजार वाहन पर एक पार्किंग की व्यवस्था है। मुंबई में वाहनों की संख्या ३५ लाख ७५ हजार है, जिसमें से दोपहिया वाहनों की संख्या १९ लाख है जबकि टैक्सी की संख्या ११ लाख १७ हजार है, इसके अलावा ठाणे व वसई-विरार आदि जगहों से प्रतिदिन करीब ३ लाख वाहन मुंबई में आवागमन करते हैं। यह खुलासा राज्य आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में हुआ है। सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार एक बड़े वाहन को पार्किंग करने के लिए २५० वर्ग फुट की जगह की आवश्यकता होती है। मुंबई मनपा के पास कुल १४२ वाहन तलों में ३५ हजार ८०८ वाहनों की पार्किंग व्यवस्था है। मुंबई में सड़कों की लंबाई १,९०० किमी है। एक किमी में ५१० वाहन खड़े होते हैं। यह बात आर्थिक सर्वेक्षण में कही गई है। बता दें कि मुंबई में पार्किंग की व्यवस्था को लेकर अनेक नियम बनाए गए हैं। इमारतों का प्लान पास करने से पहले ही बिल्डरों को पार्किंग की समुचित व्यवस्था का निर्देश दिया जाता है। इसके बावजूद पार्किंग व्यवस्था को बिल्डर नजरअंदाज करते हैं, जिसका परिणाम यह होता है कि सड़कों पर निजी वाहन खड़े कर दिए जाते हैं। परिणाम स्वरूप यातायात बाधित होता है। मनपा आयुक्त प्रवीण परदेशी ने गैरकानूनी वाहन खड़े करनेवालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्णय लिया है। भारी वाहनों पर दंड १० हजार व टोचन शुल्क ५ हजार, मध्यम श्रेणी के वाहनों पर ७ हजार ५०० व टोचन शुल्क ३ हजार ३००, कार-टैक्सी ७ हजार ५०० व टोचन शुल्क २ हजार ५००, ऑटोरिक्शा, साइड कार ६ हजार ९०० व १ हजार १०० और स्कूटर, बाइक का दंड ४ हजार ३०० और टोचन शुल्क ७०० रुपए है।