‘परिवार सबसे ऊपर है हमारे जीवन में!’ प्रियंका चोपड़ा-जोनस

अगर हॉलीवुड या बॉलीवुड के किसी भी फिल्ममेकर या प्रोडक्शन हाउस ने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के जीवन पर अगर कोई बायोपिक बनाई तो कोई अचरज की बात नहीं होगी। बरेली जैसे स्मॉल टाउन से आई डॉक्टर माता-पिता की ये बेटी ‘मिस इंडिया’, ‘मिस यूनिवर्स’ बनी और देखते ही देखते प्रियंका ने बॉलीवुड में अपना मुकाम बना लिया। करियर के अगले पायदान पर प्रियंका ने गायिका, निर्मात्री के साथ हॉलीवुड में भी बहुत सम्मानजनक टीवी शोज किए। ‘बेवॉच’, ‘इजइनइट’ फिल्मों के बाद ‘क्वांटिको’ ये पॉपुलर शो किया। निक जोनस इस हॉलीवुड सिंगर एक्टर से शादी करने के बाद प्रियंका अपने ससुराल अमेरिका में ही रहती हैं। ३ वर्षों बाद प्रियंका ने हिंदी में फिल्म ‘द स्काय इज पिंक’ की है जो एक रीयल स्टोरी है। इस समय इस फिल्म के प्रमोशन के लिए मुंबई आई प्रियंका चोपड़ा से हुई पूजा सामंत की इस बातचीत के मुख्य अंश-
 क्या वजह रही कि प्रकाश झा की फिल्म ‘गंगाजल’ करने के काफी लंबे अंतराल बाद आप अब जाकर कोई फिल्म कर रही हैं?
मैं बॉलीवुड में काम करना चाहती हूं लेकिन रोल दमदार होना चाहिए। मेरे साथ मुश्किल तो तब हुई जब ‘क्वांटिटो’ की शूटिंग में पूरे ११ महीने निकल गए और बचा सिर्फ एक महीना। एक महीने में कोई भी हिंदी फिल्म स्टार्ट टू फिनिश होना नामुमिकन है इसीलिए ‘गंगाजल’ के बाद बॉलीवुड की फिल्म ‘द स्काय इज पिंक’ करने में ३ वर्षों का गैप हुआ।
 फिल्म ‘द स्काय इज पिंक’ की सहनिर्मात्री भी आप हैं। किस तरह से अलग है यह फिल्म, जो आपने अभिनय के साथ इसका निर्माण भी किया?
‘स्काय इज पिंक’ की कहानी रीयल है। मुझे शोनाली बोस (निर्देशिका) ने जब कहानी सुनाई तो फिल्म की कहानी और किरदार मेरे दिल को छू गया। यह स्पेशल और रीयल फिल्म है। इस तरह की फिल्में हमेशा नहीं बनतीं। एक दंपति (प्रियंका-फरहान अख्तर) उनके वैवाहिक जीवन में एक बेहद प्यारी-सी बच्ची (जाहिरा वसीम) के माता-पिता बनते हैं, लेकिन जीवन के अगले पड़ाव पर बेटी को एक असाध्य बीमारी हो जाती है। जिंदगी और मौत की इस जंग में बेटी को जिंदगी से हार माननी पड़ती है। क्या गुजरती है मां-बाप पर? बड़ी ही इमोशनल कहानी है, आज जब कई इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल्स में ‘स्काय इज पिंक’ को सराहना मिलती है तो लगता है इस फिल्म को करना सार्थक हुआ।
 फिल्म में बच्ची आएशा चौधरी की मां बनी हैं आप? किस तरह रिलेट किया आपने इस किरदार को?
हम सभी के जीवन में कभी-न-कभी ऐसा दु:खद वाकया हो जाता है जब हम अपने सबसे करीबी व्यक्ति को खो देते हैं और उसकी मौत के सदमे से उबर नहीं पाते। जरूरी है अपनों के साथ हर पल प्यार से और हंसी-खुशी बिताना। अपनों को ये एहसास दिलाना कि वे हमारे हैं और उनके साथ वक्त बिताना भी बहुत जरूरी है। इस फिल्म की शूटिंग शुरू होने से पहले कहानी सुनते ही मैंने मेरे डैड, दादी और नानी को बहुत याद किया। उनके जाने से मैं बुरी तरह से टूट चुकी थी। उन्हें मौत से बचाने के लिए मैं ही जानती हूं कि मैं किस कदर जूझी हूं। लेकिन मौत ने हम सभी को मात दे दी। परिवार सबसे ऊपर है हमारे जीवन में। करियर, दोस्त, पैसा इन सबकी अहमियत परिवार के सामने कुछ भी नहीं है।
 सिंगर एक्टर निक जोनस से शादी करने के बाद आपमें कितना परिवर्तन हुआ? आप अमेरिकन बन गर्इं या निक भारतीय बन गए?
हा हा हा, न मैं अमेरिकन बनी और न ही निक पूरी तरह से भारतीय बने। लेकिन एक पंजाबी लड़की से शादी कर निक भारतीय पंजाबी जरूर बन चुके हैं। शादी के बाद मैं काफी शांत हो चुकी हूं। निक बहुत ही कूल हैं।
 अमेरिका में रहकर क्या आप भारत को मिस करती हैं?
मैं हर तीन-चार महीनों में मुंबई आती रहती हूं। मेरी मां और भाई यहीं रहते हैं। कभी वे मुझसे मिलने के लिए वहां आते हैं तो कभी मैं।
 सुना है आप अपने जीवन पर किताब लिख रही हैं?
आत्मचरित्र तो नहीं, क्योंकि मेरी लाइफ अभी खत्म नहीं हुई है और जर्नी अभी जारी है। बचपन, स्कूल, कॉलेज के दिनों यानी कुल मिलाकर १९ वर्षों की जर्नी को मैं लिख रही हूं। मेरे इस सफर की शुरुआत २००० से हुई थी इसीलिए मेरी इस किताब का नाम भी ‘अनफिनिश्ड’ है। यादों का संस्मरण है मेरी ये किताब।
जन्मतिथि – १८ जुलाई ,१९८२ जन्मस्थान – बरेली
कद – ५-५, वजन- ५२ किलो
प्रिय परिधान – दुनिया का हर परिधान मुझे पसंद है, मैं उसे वैâरी करने में समर्थ हूं। इसके बावजूद गाऊन पसंद है मुझे।
पसंदीदा व्यंजन – मां के हाथों का पंजाबी खाना खासकर- कढ़ी-चावल, राजमा चावल, आलू के पराठे और लस्सी
मनपसंद डेजर्ट – गुड़ की रोटी ऊपर से देसी घी
हॉबी – गाना, आजकल निक से गिटार भी सीख ली है।
पसंदीदा पर्यटन स्थल – लास वेगास, वैâलिफोर्निया, मियामी
पसंदीदा फिल्में – मुझे कॉमेडी जॉनर की फिल्में ज्यादा पसंद हैं। चार्ली चैप्लिन और लॉरिल हार्डी की फिल्में देखकर मैं हंसते-हंसते लोट-पोट हो जाती हूं।
मनपसंद निर्देशक – संजय लीला भंसाली, करण जौहर और वे सभी मेकर्स जिनके साथ मैं फिल्में कर चुकी हूं।