" /> 20 अप्रैल के बाद राज्य में होगा लॉक डाउन शिथिल करने का प्रयास- स्वास्थ्य मंत्री

20 अप्रैल के बाद राज्य में होगा लॉक डाउन शिथिल करने का प्रयास- स्वास्थ्य मंत्री

राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने की दर में कमी आ रही है। राज्य में कंटेनमेंट फ्रेमवर्क पर प्रभावी अमल के बाद कोरोना रोगियों की दोगुनी दर की गति अब दो दिन के बजाए छह दिन पर आ गई है। दिनों की अवधि जितनी बढ़ेगी, वह राज्य के लिए उतनी ही संतोषजनक होगी। उन्होंने बताया कि अतिआवश्यक सेवा, कृषि कार्य को लॉकडाउन से राहत देने के संबंध में केंद्र सरकार के दिशानिर्देशों पर अमल किया जाएगा। 20 अप्रैल के बाद स्थिति को देखकर लॉक डाउन को शिथिल करने का प्रयास किया जाएगा। यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने फेसबुक के माध्यम से जनता को संबोधित करते हुए दी।

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि राज्य में छह स्थानों पर और कोरोना जांच की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी, जिससे राज्य में कोरोना परीक्षण प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़कर 36 हो जाएगी। पहले कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने की गति दोगुना थी। उसके बाद तीन दिन हुई अब छह दिन हो गई है। यह दोगुना दर जितने अधिक दिन बढ़ेगी, उतनी मरीजों की संख्या कम होगी। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना से मृत्यु दर देश में सबसे अधिक महाराष्ट्र में है। उनमें से लगभग 80 प्रतिशत मौतें पहले से मौजूद मधुमेह, रक्तचाप, हृदय रोग और गुर्दे की बीमारी के कारण हुई हैं। कोरोनो मरीजों की मृत्यु दर कम करने के लिए एक विशेषज्ञों की समिति का गठन किया गया है। उस समिति के माध्यम से राज्य में इलाज चल रहे कोरोना के रोगियों के लिए तत्काल चिकित्सा सलाह दी जाएगी। समिति के विशेषज्ञों के संपर्क नंबर राज्य भर के अस्पतालों को बताए गए हैं।
राज्य में अब तक किए गए 51 हजार परीक्षणों में से लगभग आधे परीक्षण मुंबई में किए गए हैं। कुल परीक्षणों में से ढाई फीसदी मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। पुल टेस्टिंग, रैपिड टेस्टिंग के लिए भारतीय वैद्यकीय संशोधन परिषद (आईसीएमआर)  से अनुमति मांगी गई है।  राज्य में 300 कोरोना मरीज ठीक हुए हैं। उन मरीजों का प्लाजमा लेकर बाधित मरीजों  को देकर उनका एंटीबॉडिज बढ़ाने की नई तकनीकी का उपयोग करने की अनुमति आईसीएमआर से मांगी गई है। केंद्र सरकार से  8 लाख एन-95 मास्क मांग की गई है। उसमें से 1 लाख मास्क उपलब्ध हो गए हैं। तकरीबन 30 हजार पीपीई कीट भी उपलब्ध हो गई है। दिल्ली के तबलीगी मरकज में शामिल हुए 50 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।