" /> कोरोना संकट के मारों को सरकार का सहारा!

कोरोना संकट के मारों को सरकार का सहारा!

15 दिनों में बांटे 16 लाख क्विंटल से अधिक राशन- मंत्री छगन भुजबल

कोरोना संकट में लगे लॉकडाउन के कारण छाई बेकारी से कोई भूखा न रह जाए इस मकसद से राज्य सरकार जनता का पूरा ख्याल रख रही है। सरकार द्वारा राज्य के  52 हजार, 431 सस्ते अनाज की दुकानों से राशन का वितरण सुचारु रूप से जारी है। 1 जुलाई से 15 जुलाई तक राज्य के 84 लाख, 36 हजार, 596 राशन कार्डधारकों को 16 लाख, 32 हजार, 420 क्विंटल राशन का वितरण किया गया। यह जानकारी खाद्य, नागरी आपूर्ति एवं ग्राहक संरक्षण मंत्री छगन भुजबल ने दी है।
राज्य में राष्ट्रीय अन्न सुरक्षा योजना के अंतर्गत अंत्योदय और प्राधान्य परिवार लाभार्थी ऐसे दोनों राशनकार्ड के पात्र लाभार्थियों की संख्या तकरीबन 7 करोड़ है। इन लाभार्थियों को 52 हजार, 431 राशन दुकानों के द्वारा सार्वजनिक वितरण व्यवस्था का लाभ दिया जाता है। राज्य में इस योजना के तहत तकरीबन 9 लाख, 21 हजार, 806 क्विंटल गेहूं, 7 लाख, 8 हजार, 528 क्विंटल चावल और 9 हजार, 485 क्विंटल शक्कर का वितरण किया गया है। साथ ही स्थलांतरित लेकिन लॉकडाउन की वजह से राज्य में अटके हुए तकरीबन 1 लाख, 87 हजार, 202 राशन कार्डधारकों ने भी, वे जहां पर रह रहे है, वहीं पर सरकार के पोर्टबिलिटी यंत्रणा के अंतर्गत ऑनलाइन पद्धति से राशन ले रहे हैं, ऐसा भुजबल ने बताया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत प्रति लाभार्थी प्रति महीना 5 किलो (गेहुं + चावल) मुफ्त देने की योजना है। अब तक कुल 9 हजार, 656 राशन कार्डधारकों को मुफ्त में (गेहुं + चावल) का वितरण किया गया है। इन राशन कार्डधारकों को 41 हजार, 704 जनसंख्या को 2 हजार, 90 क्विंटल गेहुं और चावल का वितरण किया गया है। राज्य सरकार ने कोविड-19 के संकट पर  उपाय योजना के लिए 3 करोड़, 8 लाख, 44 हजार, 076 एपीएल केसरी राशनकार्ड के लाभार्थियों को प्रति व्यक्ति 5 किलो राशन रियायती दर से (गेहुं 8 रुपए प्रति किलो व चावल 12 रुपए प्रति किलो) देने का निर्णय लिया है। इसके तहत अब तक 13 लाख, 4 हजार, 46 क्विंटल राशन वितरण किया गया है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में प्रति राशनकार्ड 1 किलो मुफ्त दाल (तूअर तथा चना दाल) देने का प्रावधान है। अब तक इस योजना के तहत तकरीबन 3 लाख, 71 हजार, 159 क्विंटल दाल का वितरण किया गया है।