" /> आरपीएफ का ऑपरेशन सोशल डिस्टेंसिंग!

आरपीएफ का ऑपरेशन सोशल डिस्टेंसिंग!

स्टेशनों पर तैनात हुए 2,400 जवान
स्टेशनों पर बनाए 5,000 सुरक्षा कवच

मध्य रेल के मुंबई मंडल का रेलवे सुरक्षा बल, अपने धैर्य, दृढ़ संकल्प से कोरोना महामारी के इस संकटकाल के दौरान आवश्यक कर्मचारियों की सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए ऑपेरशन सोशल डिस्टेंसिंग अभियान चला रही है। इस अभियान के तहत यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए 2,400 जवानों को विभिन्न स्टेशनों पर तैनात किया गया है। स्टेशनों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे इसलिए 5,000 गोले स्टेशनों पर बनाए गए हैं, जो दो यात्रियों के बीच सुरक्षा कवच के रूम में काम कर रहे हैं।

मध्य रेल राज्य सरकार द्वारा चिन्हित आवश्यक कर्मचारियों के लिए 200 स्पेशल लोकल ट्रेनें (मेन लाइन पर 130 और हार्बर लाइन पर 70) चला रही है। जीआरपी और सिविल पुलिस के साथ अच्छा समन्वय बना कर रेलवे सुरक्षा बल के जवानों ने मुंबईकरों को अपने उपनगरीय स्टेशनों और ट्रेनों में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने व नए सामान्य तरीके अपनाने के लिए कई प्रयास किए हैं।

हजारों आवश्यक सेवाओं के कर्मियों को कतार में खड़े करना , गाड़ियों में सवार होना और सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों का पालन करना एक कठिन चुनौती है। मध्य रेल ने आवश्यक कर्मचारियों के लिए उपनगरीय ट्रेन संचालन के दौरान यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सीएसएमटी, दादर, ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, पनवेल सहित सभी उपनगरीय स्टेशनों पर 2,400 आरपीएफ और एसआरपीएफ के कर्मियों को तैनात किया है। यात्रियों को मार्गदर्शन करने के लिए सर्कल्स, एरो, स्क्वॉयर, प्लेटफॉर्म और फुट ओवर ब्रिज पर 50,000 से अधिक सोशल डिस्टेंसिंग मार्किंग के अलावा, सुरक्षित यात्रा के लिए स्टेशनों पर 1 या 2 एंट्री / एग्जिट पॉइंट सुनिश्चित करने के लिए स्टेशन सिक्योरिटी प्लान लागू करना, पैसेंजर्स को फॉलो करना घोषणाओं के माध्यम से अनुशासित करना, सीसीटीवी आधारित वीडियो विश्लेषण जैसे विभिन्न तकनीकी समाधानों का इस्तेमाल करना, यात्रियों को संभावित संक्रमण से बचाने के लिए सीएसएमटी स्टेशन पर उच्च गतिवाली स्वचालित थर्मल स्क्रीनिंग प्रणाली प्रारंभ करना, इसके अतिरिक्त आसान पहुंच और शीघ्रता के लिए 24 घंटे सेवा हेल्पलाइन भी स्थापित की गई थी।