" /> चीन के परमाणु केंद्र में भागमभाग!, ९० वैज्ञानिकों ने दिया इस्तीफा

चीन के परमाणु केंद्र में भागमभाग!, ९० वैज्ञानिकों ने दिया इस्तीफा

ऐसे में जबकि युद्ध के बादल मंडरा रहे हैं, चीन के सरकारी परमाणु संस्थान द इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर एनर्जी सेफ्टी टेक्नोलॉजी में भागमभाग मची हुई है। यहां काम करनेवाले ९० से ज्यादा वैज्ञानिकों ने इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद घबराई सरकार ने इसे ब्रेन ड्रेन मानते हुए जांच का आदेश दे दिया है। इतनी बड़ी संख्या में वैज्ञानिकों के इस्तीफे के पास इस संस्थान को चलाने के लिए बहुत कम वैज्ञानिक ही बचे हैं।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वैज्ञानिकों के इस्तीफा देने की कई वजहें हैं। जिसमें से उनके वेतनमान में गड़बड़ी और सरकारी सुविधाओं की कमी भी प्रमुख मुद्दा है। वैज्ञानिकों को काफी कम वेतन दिया जाता है। वहीं चीनी कम्युनिस्ट पार्टी इस संस्थान पर अपना पूरा अधिकार जमाए हुए है। कहा जा रहा है कि पार्टी के बड़े नेता जबरदस्ती वैज्ञानिकों से काम करवाना चाहती है। चीन का यह परमाणु संस्थान चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के अंतर्गत काम करता है। आईनेस्ट की पैरेंटिंग संस्था चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के शीर्ष पदों पर कम्युनिस्ट पार्टी के नेता काबिज हैं, जो अपनी मनमानी चला रहे हैं। यहां तक कि वैज्ञानिकों को उनके प्रोजक्ट के लिए पर्याप्त फंड तक नहीं दिया जा रहा है। संस्थान की वेबसाइट के अनुसार मध्य चीन के अनहुई प्रांत की राजधानी हेफेई में स्थित आईनेस्ट चीन के वैज्ञानिकों का एक केंद्र है। इस संस्थाान में लगभग ६०० सदस्य हैं और ८० प्रतिशत शोधकर्ताओं के पास पीएचडी की डिग्री है। यहां के कई वैज्ञानिक चीन के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। जिनकी औसत आयु ३१ साल के आस पास है। एक चीनी अधिकारी के अनुसार कभी इस संस्थान में ५०० वैज्ञानिक काम करते थे। पिछले कई सालों में यहां से बड़ी संख्या में वैज्ञानिकों ने इस्तीफा दिया है। हालात यह हैं कि इस संस्थान में वर्तमान में केवल १०० वैज्ञानिक ही बचे हैं।