" /> ‘यूपी राज’ में निशाने पर साधु!… २ साल में २० की हत्या

‘यूपी राज’ में निशाने पर साधु!… २ साल में २० की हत्या

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जारी किया डेटा

यूपी के ‘जंगलराज’ में अब बदमाशों के निशाने पर साधु हैं। बागपत में साधु का शव मिलने के बाद अब गोंडा में एक पुजारी को गोली मार दी गई है। यह यूपी की लचर कानून-व्यवस्था को दर्शाने के लिए काफी है। इस मामले में कांग्रेस ने राज्य सरकार पर जोरदार हमला बोला है। कांग्रेस ने दावा किया है कि प्रदेश में पिछले २ साल में २० साधुओं की हत्या हुई है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में इस संबंध में एक चित्रमय डेटा भी जारी किया है।

इस मामले में अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि गोंडा में राम जानकी मंदिर के पुजारी सम्राट दास को भूमाफियाओं ने गोली मार दी। भूमाफियाओं और सत्ता के गठजोड़ ने यूपी को अपराध के हवाले कर दिया है। अजय कुमार लल्लू ने ट्वीट किया, ‘गोंडा में राम जानकी मंदिर के पुजारी सम्राट दास को भूमाफियाओं ने गोली मार दी। भूमाफियाओं और सत्ता के गठजोड़ ने उत्तर प्रदेश को अपराध के हवाले कर दिया है। सरकार की जवाबदेही शून्य है। सीएम की संवेदना मरी है, बतोलेबाजी बढ़ी है। यह कथित रामराज्य है, जहां कोई सुरक्षित नहीं है।’ यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक फेसबुक पोस्ट में भी यूपी सरकार पर निशाना साधा। पोस्ट में उन्होंने एक नक्शा भी पोस्ट किया, जिसमें यह उल्लेख है कि प्रदेश में कहां-कहां साधुओं को निशाना बनाया गया है।
बता दें कि गोंडा जिले में एक पुजारी को लंबे समय से चले आ रहे संपत्ति विवाद को लेकर शनिवार रात में गोली मार दी गई थी। पीड़ित सम्राट दास, राम जानकी मंदिर में पुजारी हैं। उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन रविवार तड़के इलाज के लिए लखनऊ रेफर करना पड़ा। डॉक्टरों के मुताबिक उनकी हालत गंभीर है। इस मामले में चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। बता दें कि गोंडा से पहले, बागपत में यमुना नदी में एक साधु का शव मिलने से हड़कंप मच गया। नदी से शव को निकलवाकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। मृतक की पहचान की कोशिश जारी है। भगवा रंग के पोशाक में बरामद किया गया यह शव मध्यम आयु वर्ग का लग रहा है। पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से उनकी मौत का कारण पता चलेगा।

भाजपा राज में साधु व ब्राह्मण असुरक्षित!
यूपी में साधुओं को निशाना बनाए जाने के संबंध में वरिष्ठ पत्रकार रामकिशोर त्रिवेदी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि गोंडा के राम जानकी मंदिर के संत सम्राटदास पर सरेआम गोलियां चलाना और बमबारी बता रही है कि सीएम योगी राज में विप्र और साधु-संत सुरक्षित नहीं हैं। गोंडा के सांसद ब्रजभूषण शरण सिंह के आशीर्वाद से इटियाथोक के थानाध्यक्ष संदीप सिंह की भूमिका भाजपा के रावणराज की पुष्टि कर रही है। इसके पहले हाथरस में योगी की पुलिस और प्रशासन का नंगा नाच अब तक सुर्खियों में है। सांसद ब्रजभूषण पुराने माफिया हैं लेकिन भाजपा में आने से उनके सारे पाप धुल गए हैं। राम जानकी मंदिर ट्रस्ट के पास लगभग एक हजार बीघा जमीन है और इसके संरक्षक श्री रामविलास वेदांती हैं, जो भाजपा के सांसद रह चुके हैं। आरोपी अमर सिंह पर संगीन धाराओं में लगभग ४० मुकदमे दर्ज हैं। इसका मतलब कि योगी आदित्यनाथ की सरकार किसी क्षत्रिय को अपराधी नहीं मानती। ॅस्ब्दुग्a्ग्ूब्हaूप् जी, आप तापस वेश में राज कर रहे हैं लेकिन आप के राज में ब्राह्मण, दलित और मुस्लिमों का लगातार उत्पीड़न हो रहा है। योगी जी के शासन में यूपी पुलिस अंग्रेजों की पुलिस से ज्यादा क्रूर हो गयी है। ब्राह्मण और संत समाज को चुन-चुनकर मारा जा रहा है। भाजपा में शामिल ब्राह्मण और साधु संत सत्ता के लालच में अपना धर्म भूल गए हैं। हद तो यह है कि विप्र और धेनु के तथाकथित रक्षक नागपुर वाले ‘मोहनबाबा’ भी मौन हैं।