" /> सील इमारतें हो रहीं अनलॉक!… १५ दिन में दो हजार जगह प्रतिबंध से मुक्त

सील इमारतें हो रहीं अनलॉक!… १५ दिन में दो हजार जगह प्रतिबंध से मुक्त

 नियमों के उचित पालन का परिणाम
 चाल और झोपड़पट्टियों से कोरोना हो रहा गायब

मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या अब तेजी से कम हो रही है। वहीं चाल और झोपड़पट्टियों से भी कोरोना गायब होता नजर आ रहा है। कोरोना के कम होते ही पिछले १५ दिनों में मुंबई मनपा ने इमारत में लॉक हुई २००२ जगहों को पूरी तरह से अनलॉक कर दिया है। चाल और झोपड़पट्टियों में भी कोरोना नियंत्रित में आने से यहां २३ कंटेंमेंट जोन को भी प्रतिबंध से मुक्त कर दिया गया है। राज्य सरकार के ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ अभियान का पालन कड़ाई से होने के कारण कोरोना को कंट्रोल करने में सफलता मिल रही है।
बता दें कि कोरोना मरीज के मिलते ही उस परिसर को मनपा कंटेंमेंट जोन के रूप में घोषित करती है। यहां नियमों का पालन नागरिकों से करवाया जाता है। इसके अलावा १० से अधिक कोरोना मरीज के मिलने से पूरी इमारत को मनपा द्वारा सील कर दिया जाता है। अगस्त और सितंबर माह में कोरोना मरीजों के आंकड़े बढ़ने से मनपा के सामने एक बड़ी चुनौती थी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की संकल्पना पर पूरे महाराष्ट्र में ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ योजना को नियमित रूप से लागू किया गया, जिसकी वजह से अब कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से कम हो रही है। ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ योजना के तहत घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया जा रहा और जनजागृति कर लोगों को सावधानी बरतने की अपील की जाती है।
ऐसे आई कमी
मुंबई में १५ अक्टूबर तक कुल ९ हजार ४५९ इमारतें सील थीं, वहीं झोपड़पट्टियों में कुल ६३२ कंटेंमेंट जोन थे। २३ अक्टूबर को सील इमारतों की संख्या घटकर ८,५१८ और कंटेंमेंट जोन की संख्या घटकर ६२० तक आ पहुंची। कोरोना मरीजों के घट रहे ग्राफ के चलते ३० अक्टूबर तक सील इमारतों की संख्या घटकर ७,४५७ और कंटेंमेंट जोन की संख्या ६०९ पर आ पहुंची है।