" /> कोरोना रोगियों और उनसे संक्रमितों की करो तलाश!, – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोरोना रोगियों और उनसे संक्रमितों की करो तलाश!, – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोरोना के संदर्भ में वैâबिनेट की बैठक में प्रस्तुतिकरण के बाद, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य की सभी मनपाओं में कोरोना रोगियों और उनके अधिकतम संपर्क में आनेवालों की तलाश करने पर ध्यान देने का निर्देश सभी मंत्रियों को दिए। उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह मुंबई में वार्ड के अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में उन्हें निर्देश दिया था कि जब तक कोरोना समाप्त न हो जाए, तब तक कहीं भी उदासीनता नहीं बरती जाए और सतर्क रहें। केवल लॉकडाउन करना महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि रोगियों के साथ अधिकतम संपर्क और उनके संपर्क में आनेवालों को खोजने, उन्हें समय पर आइसोलेशन की सुविधा में दाखिल करने के साथ ही तत्काल योग्य उपचार शुरू करना आवश्यक है। सभी मनपा इस दृष्टि से अतिशय कड़ाई से कार्यवाही करें। पीपीई किट और मास्क की सप्लाई १ सितंबर से बंद करने को केंद्र ने कहा है। केवल मैंने प्रधानमंत्री से यह सप्लाई आगे तक शुरू रखने का अनुरोध किया है। ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा। इस अवसर पर प्रधान सचिव स्वास्थ्य डॉ. प्रदीप व्यास ने कहा कि महाराष्ट्र में मृत्युदर में अब ३.६२ प्रतिशत की कमी हुई है। मुंबई में रोगियों के दोगुना होने की कालावधि ७० दिन हो गई है। १० लाख की जनसंख्या में सर्वाधिक रोगी ठाणे, मुंबई और पुणे इस भाग में हैं। कल्याण-डोंबिवली महापालिका, पुणे, उल्हासनगर, नई मुंबई मनपा क्षेत्रों में ज्यादा संख्या में रोगी मिल रहे हैं।

विधानमंडल का मॉनसून सत्र ७ सितंबर से होगा शुरू
महाराष्ट्र विधानसभा का आगामी तीसरा मॉनसून सत्र सोमवार, ७ सितंबर से मुंबई में शुरू होगा। मंत्रिमंडल की बैठक में कल राज्यपाल को यह सिफारिश करने की मंजूरी दी गई। इससे पहले, सलाहकार समिति की एक बैठक ने ३ अगस्त से मॉनसून सत्र आयोजित करने का निर्णय लिया था। परंतु कोरोना की पृष्ठभूमि में भारी पैमाने पर प्रशासनिक मशीनरी कार्यरत है। इसलिए यह अधिवेशन ७ सितंबर से शुरू करने का निर्णय लिया गया है।

मास्क न उतारें, आंकड़े कम करने हैं! -आदित्य ठाकरे
मुंबई में कोरोना नियंत्रण में आ रहा है। कल बुधवार को १०० दिन बाद मुंबई में ७०० कोरोना मरीज पाए गए। इसे लेकर पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि आगे भी हमें सावधानी बरतनी होगी। लापरवाही न बरतें। चेहरे पर से मास्क न उतारें। हमें सिर्फ आंकड़े कम करने हैं। उन्होंने आगे कहा कि ‘चेस द वायरस’ मॉडल पिछले सप्ताह भर से मुंबई महानगर में भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके बेहतर नतीजे भी दिखाई दे रहे हैं। शेष महाराष्ट्र में भी कोरोना के विरुद्ध जंग को तेज करने का प्रयास शुरू है। उन्होंने मनपा के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि मुंबई में मरीजों का डबलिंग रेट ७२ दिन हो गया है। इसके साथ ही अस्पतालों में बेड रिक्त होने लगे हैं। कोविड बेड ७,१७८ और आईसीयू के २०४ बेड अस्पतालों में रिक्त हैं।