फिल्मी कलाकार को  समझा `आतंकी’, सुरक्षा रक्षक हुआ सम्मानित

वसई तालुका में एक आतंकवादी की मौजूदगी की खबर मिलने के बाद पुलिस को घंटों मशक्कत करनी पड़ी। फिर बाद में जब व्यक्ति की असली पहचान उजागर हुई तो पुलिस ने राहत की सांस ली। पुलिस जांच में पता चला कि जिस व्यक्ति को लोग `आतंकवादी’ समझ रहे थे, वह दरअसल एक फिल्म के क्रू दल का सदस्य था। फिल्म की बगल में ही शूटिंग चल रही थी। मानिकपुर थानाध्यक्ष राजेंद्र कांबले ने बताया कि पुलिस नियंत्रण कक्ष को एक फोन आया। फोन करनेवाले भारत बैंक के सुरक्षा रक्षक अनिल रामदास महाजन ने वसई इलाके में एक `आतंकी’ के कार में घूमने की सूचना दी। महाजन ने पुलिस को बताया कि संदिग्ध दिख रहे व्यक्ति की दाढ़ी बढ़ी हुई है और उसके पास गोलियों का एक पाउच है। यह फोन आने के साथ ही इलाके के विभिन्न थानों को सतर्क कर दिया गया।

पुलिस ने व्यक्ति का पता लगाने के लिए सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की, जिसे वसई के सनसिटी इलाके में कार के साथ देखा गया था। इसके बाद व्यक्ति को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस की पूछताछ के दौरान व्यक्ति ने बताया कि वह पास में शूट हो रही एक फिल्म के क्रू दल का सदस्य है। वह फिल्मी वेशभूषा में ही इलाके में घूम रहा था। पुलिस द्वारा व्यक्ति की पहचान की पुष्टि के बाद उसे रिहा कर दिया गया। हालांकि बलराम धुनाराम जिनवाल, अरबाज रज्जाक खान, हिमालय पाटील, दत्ताराम लाख के खिलाफ आईपीसी १८८ के तहत नालासोपारा पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। वसई के एडिशनल एसपी विजयकांत सागर ने भारत बैंक के सुरक्षा गार्ड अनिल महाजन को पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया। सागर ने बताया कि अनिल महाजन सेना के रिटायर्ड सैनिक हैं। इन्होंने जम्मू-कश्मीर में सेना को सेवा दी है।