" /> पुलिस के शिकंजे में दिल्ली का तमंचेबाज!

पुलिस के शिकंजे में दिल्ली का तमंचेबाज!

दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान कई कांस्‍टेबल पर तमंचा तानने तथा कई राउंड फायरिंग करनेवाले शाहरुख गिरफ्तार कर लिया गया है। शाहरुख की गिरफ्तारी यूपी के आईएसआई प्रभावित शामली जिले से की गई है। दिल्‍ली पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। पुलिस ने अभी तक इस मामले में इस्‍तेमाल की गई पिस्‍टल नहीं ढूंढ़ पाई है। पिस्‍टल बरामद करने की कोशिश की जा रही है।
दिल्‍ली पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि गुस्‍से के चलते उसने फायरिंग की थी। शाहरुख जाफराबाद हिंसा का चेहरा बन गया था। कुछ पत्रकार तथा मीडिया संगठनों ने शाहरुख को अनुराग मिश्रा साबित करने की कोशिश की थी। शाहरुख का कहना है कि उस कोई आपराधिक मुकदमा दर्ज नहीं है लेकिन उसका परिवारिक बैकगग्राउंड आपराधिक है। उसके पिता साबिर पर फेक करेंसी, नशीले पदार्थों की तस्‍करी का मामला दर्ज है। शाहरुख पिस्‍टल तानने के बाद से ही फरार चल रहा था। पुलिस उसकी तलाश में कई जगह छापेमारी कर रही थी। शाहरुख के साथ उसका पूरा परिवार भी फरार हो गया था। शाहरुख के परिवार में एक बड़ा भाई और मां-बाप हैं। दूसरी तरफ दंगे का एक और आरोपी तथा आम आदमी पार्टी का पार्षद ताहिर पुलिस की पकड़ से बाहर है। एडिशनल सीपी (क्राइम ब्रांच) अजीत कुमार शिंगला ने बताया कि उसने तीन गोलियां चलार्इं। पांच इसके पास से बरामद हुई हैं। ६.७५ बोर की पिस्टल सेमी ऑटोमैटिक है। यह जिम का भी शौकीन है। बीए सेकेंड ईयर तक ही पढ़ाई की है। म्यूजिक वीडियो भी बनाता रहा है। पुलिस पर पिस्टल तानने की घटना के बाद उसने कनॉट प्लेस की एक पार्किंग में रात बिताई थी, जिसके बाद वह जालंधर भाग गया था। वहां से बरेली और फिर शामली चला गया था। वहां वह एक दोस्त के पास रह रहा था।

राख हुए १२२ घर ३२२ दुकानें तबाह
नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी जिला प्रशासन ने दिल्ली में पिछले सप्ताह हुई हिंसा में हुए नुकसान को लेकर अंतरिम रिपोर्ट तैयार कर ली है। इसके मुताबिक हिंसा में उपद्रवियों ने १२२ घरों को जला दिया। उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिला प्रशासन द्वारा तैयार की गई अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार पिछले सप्ताह हिंसा के दौरान कम से कम १२२ घर, ३२२ दुकानें और ३०१ वाहन पूरी तरह से खाक हो गए या बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। हालांकि माना जा रहा है कि अंतिम रिपोर्ट में यह संख्या और बढ़ सकती है।

अब तक १,३०० गिरफ्तार
हिंसा के संबंध में १,३०० लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में स्थिति शांत है और पिछले पांच दिनों में हिंसा का कोई मामला सामने नहीं आया है। इसके अलावा पुलिस ने अफवाह फैलाने के आरोप में ४० लोगों को गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें…गृह मंत्रालय ने पुलिस  से तलब की  दिल्ली  हिंसा की रिपोर्ट