स्मशान को मिली सीएनजी, शिवसेना के प्रयासों को सफलता

कल्याण-डोंबिवली महानगरपालिका द्वारा गत वर्ष विट्ठलवाड़ी श्मशान भूमि में सीएनजी गैस द्वारा शवों को जलाने की मशीन का लोकार्पण किया गया लेकिन अब भी जागरूकता के अभाव में बहुत ही कम लोग इसका उपयोग कर रहे हैं।      गत वर्ष २५ सितंबर को शिवसेना नगरसेविका स्नेहल प्रमोद पिंगले के अथक प्रयासों के बाद आयुक्त गोविंद बोडके तथा महापौर विनीता राणे ने इसका लोकार्पण किया था। इस मशीन को बैठाने का मुख्य उद्देश्य यह था कि इसके द्वारा प्रदूषण को रोका जा सकता है तथा समय की भी काफी बचत होती है, जहां लकड़ी द्वारा शवों को जलाए जाने पर तीन से चार घंटे का समय लगता है, वहीं इस मशीन के द्वारा एक से डेढ़ घंटे में शव जल जाता है। मशीन के ऑपरेटर मंगेश ने बताया कि महीने में १० से १२ शव ही इस मशीन के माध्यम से जलाए जा रहे हैं। सीएनजी गैस सिस्टम होने से प्रदूषण नहीं होता तथा २४ घंटे यह मशीन चालू रहती है। सबसे खास यह कि यह सेवा मनपा द्वारा बिना किसी पैसे के यानी मुफ्त है, स्वेच्छा से जो दान देना चाहे वह स्वीकार किया जाता है जबकि लकड़ी के द्वारा जलाए जाने से लगभग ३ से ४ हजार रुपए का खर्च आता है। चिरंतन कंपनी की इस मशीन को महानगर गैस कंपनी द्वारा सीएनजी उपलब्ध कराई जाती है तथा काफी ऊंची चिमनी के द्वारा धुआं ऊपर ही निकल जाता है। ऐसी तमाम खूबियां होने के बावजूद नागरिक इसके प्रयोग से जानकारी के अभाव में कतराते हैं। स्थानीय शिवसेना नगरसेविका के पति प्रमोद पिंगले ने बताया कि ७० लाख रुपये खर्च कर इस मशीन को काफी प्रयासों के बाद लगाया जा सका है, पहले डीजल मशीन थी, जिसे सीएनजी में परिवर्तित कराया गया है। क्षेत्रीय लोगों से आह्वान है कि इसका उपयोग करें। उन्होंने कहा कि जल्द ही इसके विषय मे लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जाएगा।