गलतियों से ही सीखा है! सोनाक्षी सिन्हा

बॉलीवुड के गलियारे में शॉटगन कहलानेवाले शत्रुघ्न सिन्हा की सुपुत्री सोनाक्षी सिन्हा भी सोना, लेडी शॉटगन, दबंग गर्ल जैसे नामों से प्रसिद्ध हैं। सोनाक्षी के फिल्म करियर को १० वर्ष पूरे हो रहे हैं और उनकी डेब्यू फिल्म ‘दबंग’ ने रिलीज के ९ वर्ष पूरे किए हैं जबकि सलमान खान-सोनाक्षी अभिनीत दबंग फिल्म की फ्रेंचाइजी ‘दबंग ३’ २० दिसंबर (२०१९) को रिलीज हो रही है। नई जनरेशन की अभिनेत्रियों में सोनाक्षी सिन्हा काफी अव्वल स्थान पर हैं। प्रस्तुत है सोनाक्षी सिन्हा से पूजा सामंत की हुई बातचीत के मुख्य अंश-

‘मायंत्रा’ फैशन ब्रांड को आप एंडोर्स कर रही हैं, क्या नया होगा इस ब्रांड के तहत?
नई जनरेशन फैशन कॉन्शस है पर उनके पास १० स्टोर्स हैं ढूंढ़कर। मनचाही क्लोथिंग के लिए समय भी नहीं है। ऐसे में मायंत्रा ही उनका मित्र है। खैर, मायंत्रा अब एक कांटेस्ट लेकर आया है। अपने फैंसी फोटोज वे मायंत्रा के पास भेजें और उनकी ग्लैमरस तस्वीरों को मायंत्रा सिलेक्ट कर उन्हें पैâशन शो में मौका देगी और संभवत: मायंत्रा के साथ उनका लंबा एसोसिएशन होगा। इस नए वेंचर के साथ मैं जुड़ गई और पिछले कुछ दिनों से हमने कई पैâशनेबल चेहरे सिलेक्ट किए जो मायंत्रा पैâशन वीक का हिस्सा होंगे।
युवा अपने करियर के साथ व्यस्त हैं। वे हमेशा मोबाइल में व्यस्त रहते हैं। क्या नई पीढ़ी फैशन कॉन्शंस है?
नई पीढ़ी शायद इसीलिए फैशन कॉन्शस है चूंकि अपने मोबाइल के जरिए वे दुनियाभर के फैशन ट्रेंड्स की जानकारी रखते हैं। वेल कनेक्टेड रहते हैं। क्या पहनना है? एक्सेसरीज क्या होनी चाहिए? उन्हें सब पता है। बिना कोई फैशन गुरु -बिना कोई स्टाइलिस्ट। अपने लुक्स को वे बखूबी कैरी करते हैं और अपनी पिक्चर्स को सोशल मीडिया पर पोस्ट भी करते हैं। यही आइडिया था इस इनिशिएटीव के पीछे।
आपमें कितना है फैशन सेंस? कभी फैशन डिजास्टर हुआ था आपके साथ?
मैंने पहले कहा भी था कि मैंने एसएनडीटी (महिला कॉलेज, होम सायंस) से फैशन डिजाइनिंग सीखी है पर उसे सीखने फैशन सेंस अचानक रातोंरात बढ़ तो नहीं जाएगा न! मैं अपने १० वर्षीय बॉलीवुड की जर्नी से धीरे-धीरे सीख रही हूं। फिर वो फैशन सेंस हो या अभिनय। अपनी ही गलतियों से मैंने सीखा है। यहां और अब आय एम इन गुड स्पेस। मुझे अपनी गलतियों पर गिला शिकवा नहीं है क्योंकि हर दूसरा इंसान अपनी गलतियों से ही सीखता है। हमारी गलतियों पर कोई दूसरा उंगली उठाएं तो हमारी गलती हमें समझ में आती है और उस गलती में सुधार करना संभव होता है।
आपके अनुसार बॉलीवुड में फैशन आइकन कौन है?
बहुत सारे कलाकार हैं। मुझे लगता है जो मुझसे बेहतर अच्छा फैशनेबल रहना जानते हैं जैसे दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह दोनों फैशन में अव्वल हैं। दीपिका चूंकि मॉडलिंग की दुनिया से आई हैं, उनमें अपनेआप एक स्वाभाविक फैशन सेंस है। रणवीर सिंह तो जो भी पहनते हैं, उसे गजब कैरी करने की क्षमता रखते हैं। सोनम कपूर है ही फैशन आइकन। आलिया भी बहुत पैâशनेबल है।
आप अधिकतर फिल्मों में इंडियन लुक्स में ज्यादा नजर आईं। आप पर देसी हीरोइन का लेबल लग चुका है? क्या देसी कहलाना आपको पसंद है?
सबसे पहले क्लियर कर दूं कि मैं भारतीय अभिनेत्री हूं। अपने भारतीयत्व पर मुझे नाज है। मैं हॉलीवुड की अभिनेत्री नहीं हूं जो मुझे देसी हीरोइन कहने पर आपत्ति हो। खैर, मेरी पहली फिल्म `दबंग’ थी, जिसमें मैंने `रज्जो’ का किरदार निभाया था। मेरी डेब्यू फिल्म हिट रही, जिसकी फ्रेंचाइजी (दबंग-२) हिट रही और अब `दबंग-३’ भी बन गई है। मेरे द्वारा `दबंग’ में पहनी गई स्टाइलिश सलवार की डिजाइन कई गांवों-शहरों में सोनाक्षी सलवार के नाम से मशहूर हो गई। और हां, एक और बात! फिल्म `दबंग’ में रज्जो की नोज रिंग भी बहुत पॉपुलर हो गई थी और `दबंग फिल्म भाग १ और २ की सफलता के बाद आई फिल्में `राउड़ी राठौर’, `लुटेरा’ और `आर राजकुमार’ फिल्मों में भी मेरा देसी लुक ही था, जिससे मेरी पहचान बनी।
‘दबंग ३’ कब रिलीज हो रही है ? क्या रोल है आपका?
`दबंग ३’ फिल्म की शूटिंग अगस्त के पहले सप्ताह पूरी हो गई है। इस समय डबिंग-पोस्ट प्रोडक्शन जोरों पर है। सलमान सर दूसरी और बिग बॉस सीजन १३ में भी बहुत व्यस्त हैं। फिल्म `दबंग ३’ में भी मेरा किरदार रज्जो यानी चुलबुल पांडे की पत्नी का ही है।
‘खानदानी शफाखाना’ जैसी एडल्ट विषय वाली फिल्म करने में आप कितनी कंफर्टेबल थीं?
जब `खानदानी शफाखाना’ की स्क्रिप्ट आई मेरे पास तो मुझे लगा शायद गलती से आई है लेकिन जब कहानी-किरदार पढ़ा मैंने तब मैं मना नहीं कर सकी। पूरी दुनिया में अपना देश आबादी के मामले में दूसरे नंबर पर है लेकिन सेक्स पर बात करना अभी इक्वीसवीं सदी में भी क्यों टैबू माना जाता है? इस फिल्म की सफलता से मुझे लगा कि जिस फिल्म में पुरुष किरदार को प्रोटोगनिस्ट होना चाहिए था, वहां मैं महिला होकर फिल्म की प्रोटोगोनिस्ट दिखाई गई हूं। यह बात मेरे लिए गर्व की बात है इसीलिए `खानदानी शफाखाना’ मेरे भीतर की अभिनेत्री को ग्रो करने जैसी बात थी।

जन्मतारीख- २ जून
जन्मस्थान- पटना
कद-५ फुट ७ इंच
वजन- ६२ किलोग्राम
प्रिय परिधान- इंडियन
पसंदीदा
डेजर्ट- पाइनेपल हलवा
पर्यटनस्थल- मालदीव्ज, बाली
फिल्म- कालीचरण, काला पत्थर