" /> ‘चेस दी वायरस’ सख्ती से लागू करो! -मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

‘चेस दी वायरस’ सख्ती से लागू करो! -मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

कोरोना के संकट का हम बिना किसी डर के सामना कर रहे हैं। मिशन जीरो के तहत नगर जिले में अधिक से अधिक रोगियों का समय पर उपचार करें, बुजुर्गों और अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों पर विशेष ध्यान दें। ‘चेस दी वायरस’ के तहत लक्षण दिखनेवाले लोगों तक स्वास्थ्य सेवा तुरंत पहुंचना चाहिए। इससे संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने में मदद मिलेगी। ऐसा प्रतिपादन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि राज्य सरकार के प्रयासों से एनजीओ स्वास्थ्य सेवा के लिए आगे आए। ‘आपको समुदाय को क्या देना है, यह सोचना महत्वपूर्ण है। यह आपके काम से स्पष्ट होता है। ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा। यहां जिलाधिकारी कार्यालय स्थित राज्य प्रशासन और शिवप्यारीबाई बृजलाल धूत चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से जिला अस्पताल शुरू किया गया। इस अस्पताल में २५ बेड अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्ज आईसीयू विभाग, भारतीय जैन संगठना की ओर से नगर मनपा की क्षेत्र में शुरू मिशन जीरो उपक्रम और जिला अस्पताल स्थित आरटीपीसीआर लैब की क्षमता बढ़ाने के कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री ठाकरे ने ई-प्रणाली के माध्यम से किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उक्त बातें कहीं।
कार्यक्रम की शुरुआत में मुख्यमंत्री ने सभी को बकरी ईद और राजस्व दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि हम एक साथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई का सामना कर रहे हैं। हम जो कर रहे हैं, वह जनता के हित में है। यही कारण है कि उसे चारों ओर से समर्थन मिल रहा है। इससे काम की गति बढ़ गई है। कोरोना की दवा अभी तक नहीं मिली है। इसलिए हम उन रोगियों को खोजकर इलाज कर रहे हैं, जिनमें लक्षण पाए जाते हैं। परीक्षणों की संख्या बढ़ रही है राज्य में प्रयोगशालाओं की संख्या अब बढ़ गई है। हम सब कुछ करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह बहुत गर्व की बात है कि सामाजिक संगठन आगे आ रहे हैं और इसमें सहयोग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के बाद कुछ चीजों में ढील दी गई हैं। दिन-प्रतिदिन के कार्यों को सुव्यवस्थित करने के प्रयास चल रहे हैं। उदासीन रहने से चलनेवाला नहीं है। हमेशा सतर्क रहना होगा। छूट के बाद कोरोना की घटनाओं में वृद्धि हुई है। इसलिए सख्त नियोजन किया जाना चाहिए और नागरिकों से सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का उपयोग करने आदि का आग्रह किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसमें जनप्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों की बड़ी भूमिका है। मुख्यमंत्री ने संक्रमण को रोकने के लिए सख्त योजना बनाने की सलाह दी। मृत्यु दर को कम रखना, परीक्षणों की संख्या बढ़ाना और समय पर रोगियों का इलाज करना महत्वपूर्ण है। हम धारावी और वर्ली में प्रकोप को रोकने में सफल रहे। अन्य बीमारियों वाले लोगों को समय पर पहचानने और उपचार करने पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। नगर जिले में भी हमें मिशन जीरो ‘के तहत चेस द वायरस’ करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने जिले में डॉक्टरों की एक टास्क फोर्स बनाई है। इस टास्क फोर्स ने अपना काम शुरू कर दिया है। इस अवसर पर राजस्व मंत्री बालासहेब थोरात आदि मंत्रियों व अधिकारियों ने अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर राज्य के राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, पालकमंत्री हसन मुश्रीफ, उच्च और तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री तानपुरे ने ई-प्रणाली के माध्यम से इस कार्यक्रम में भाग लिया था। सांसद सदाशिव लोखंडे, विधायक डॉ. सुधीर ताम्बे, जिला कलेक्टर राहुल द्विवेदी, धूत चैरिटेबल ट्रस्ट के अनुराग धूत, भारतीय जैन संघ के आदेश चांगडिया, जिला सर्जन डॉ. सुनील पोखरणा, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संदीप सांगले, नोडल अधिकारी बापूसाहेब गाडे आदि उपस्थित थे।