मुझे दोनों से प्यार है! -तमन्ना भाटिया

‘बाहुबली’ फेम अभिनेत्री तमन्ना भाटिया को दर्शकों ने साजिद खान निर्देशित फिल्म ‘हिम्मतवाला’ में देखा। १९८३ में रिलीज हुई थी श्रीदेवी और जितेंद्र की ‘हिम्मतवाला’ जिसने सफलता का परचम लहराया था। तमन्ना की फिल्म ‘हिम्मतवाला’ इसी की रीमेक थी। एक लंबे समय बाद तमन्ना अभिनीत फिल्म ‘बाहुबली’ रिलीज हुई और इतनी सफल हुई कि अब यह याद दिलाना पड़ रहा है लोगों को कि ‘बाहुबली’ फेम तमन्ना ही ‘हिम्मतवाला’ में लीड एक्ट्रेस थीं। फिलहाल तमन्ना और चिरंजीवी अभिनीत फिल्म ‘सायरा नरसिम्हा रेड्डी’ रिलीज हुई है। प्रस्तुत है तमन्ना भाटिया से हुई पूजा सामंत की बातचीत के मुख्य अंश-

 सबसे पहले यह बताइए कि आपको साउथ की फिल्मों में काम करना पसंद है या हिंदी फिल्मों में?
एक मां से यह पूछना व्यर्थ है कि उसके दो बच्चों में उसे कौन-सा बच्चा पसंद है? मेरे लिए दोनों भाषाओं की फिल्में बहुत मायने रखती हैं। मुझे एक आम लड़की से स्टार बनाया इन दोनों फिल्मों ने इसीलिए यह कहना बड़ा ही मुश्किल काम है, मुझे दोनों से उतना ही प्यार है। मेरे लिए न तो कोई कम है और न कोई ज्यादा।
 ‘सायरा नरसिम्हा रेड्डी’ में आपने सीनियर अभिनेता चिरंजीवी के साथ काम किया है, क्या सीखा आपने उनसे?
चिरंजीवी एक विनम्र व्यक्ति हैं, यह मैं अच्छी तरह समझ गई हूं। कभी राजनीति में सक्रिय रहे इस अभिनेता से मैंने जाना की राजनीति में नहीं जाना चाहिए, खासकर उन्हें जो कलाकार हैं। खैर, चिरंजीवी से मैंने यह भी समझा कि हमारे जीवन की चाहे जितनी भी समस्या हो लेकिन एक कलाकार जब परफॉर्मेंस देने दर्शकों या वैâमरे के सामने आता है तब हमें अपनी व्यक्तिगत दुनिया को भुलाकर खुद को अपनी कला यानी अभिनय की दुनिया में समर्पित हो जाना चाहिए। अपनी कला, अपने अभिनय को अपना योगदान शत-प्रतिशत देना चाहिए। चिरंजीवी सर ने मुझे अपने आपको भुलाकर अभिनय में खोना सिखाया।
 सुना है कि आप अभिनेत्री श्रीदेवी की जीवनी पर बननेवाली बायोपिक फिल्म में खुद श्रीदेवी का रोल निभाना चाहती हैं?
श्रीदेवी अपने देश की आयकॉनिक अभिनेत्री थीं। श्रीदेवी को पर्दे पर साकार करना आसान नहीं पर यह एक सपना, एक महत्वाकांक्षा है लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। वो मेरी सबसे प्रिय अभिनेत्री थीं।
 आपका नाम हिंदी, साउथ में हो चुका है। कितना पारिश्रमिक बढ़ा है आपका? कितनी संतुष्ट हैं आप इस नए पारिश्रमिक से?
अभिनेत्रियों को पारिश्रमिक अभिनेताओं से कम मिलता है। यह एक कड़वी सच्चाई है लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि यह दौर भी खत्म होगा। अभिनेत्रियों को भी अच्छा पारिश्रमिक मिलेगा। फिल्मों में अब दर्शक अच्छे कॉन्टेंट देखना पसंद करते हैं। अगर मेकर्स अच्छा कॉन्टेंट पेश करेंगे तो फिल्मों को हिट होने से कोई नहीं रोक सकता। अगर फिल्मों में ओवरऑल मुनाफा बढ़ेगा तो सिर्फ मेन लीड ही नहीं बल्कि सभी यानी कॉमेडियन, चरित्र कलाकार, डांसर्स सहित सभी को इसका फायदा होगा और मैं यही चाहती हूं कि सभी को इसका फायदा मिले।
 साउथ के हर अभिनेता को सुपरस्टार कहते हैं?
साउथ के स्टार्स खासकर अभिनेता विनम्र हैं। चिरंजीवी सर और उनके बेटों के साथ भी मैंने काम किया है। इनमें बहुत सादगी है। चाहे कितनी भी अमीरी आए, इनके पैर जमीं पर ही होते हैं। यह मैंने देखा है। इनका सुपरस्टारडम जनता से जुड़ा है।

जन्मतिथि : २१ दिसंबर
जन्मस्थान : मुंबई
कद : ५ फुट ५ इंच
वजन : ५५ किग्रा
पसंदीदा रंग : लाल
पसंदीदा अभिनेता : महेश बाबू, ऋत्विक रोशन
अभिनेत्री : माधुरी दीक्षित