शिक्षकों, पहले अग्निपरीक्षा दो! मिलेगी इंटरनेशनल स्कूल की मान्यता

राज्य के लगभग १०० स्कूलों को महाराष्ट्र इंटरनेशनल एज्युकेशन बोर्ड (एमआईईबी) का दर्जा देने का निर्णय महाराष्ट्र सरकार ने लिया है। इंटरनेशनल स्कूल की मान्यता पाने के लिए मनपा के स्कूल भी होड़ में है लेकिन इसके लिए शिक्षकों को पहले खुद ज्ञान की अग्निपरीक्षा से गुजरना होगा। यदि वे उक्त परीक्षा में सफल होते है तभी उन्हें एमआईईबी की मान्यता मिलेगी।

बता दें कि शैक्षणिक वर्ष २०१८-१९ में राज्य सरकार ने महाराष्ट्र के १३ स्कूलों को एमआईईबी की मान्यता दी थी। सरकार अब १०० और स्कूलों का उक्त बोर्ड के अंतर्गत समावेश करने की योजना बना रही है। मान्यता पाने के लिए सरकार द्वारा तय किए गए मापदंड पर स्कूलों को खरा उतरना होगा। स्कूल के पंजीकरण से लेकर शिक्षकों की क्षमता को भी परखा जाएगा। शिक्षकों को प्रोग्राम फॉर इंटरनेशनल स्टूडेंट्स असेसमेंट (पीसा) नामक परीक्षा से गुजरना होगा। मनपा के शिक्षण अधिकारी महेश पालकर ने कहा कि मान्यता के लिए मनपा स्कूल का हेडमास्टर आवेदन कर सकता है लेकिन उन स्कूल के टीचरों को भी परीक्षा देनी होगी और सफल होना है। मनपा के केवल ४ स्कूलों को मान्यता दी जाएगी। शिक्षकों को परीक्षा में पास होने के लिए उचित मार्गदर्शन किया जा रहा है। एमआईईबी का दर्जा प्राप्त करने के लिए मनपा के ५० स्कूलों के हेडमास्टरों ने आवेदन किया हैं, जिसमें से लगभग ५५ शिक्षकों ने परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी है। परीक्षा में शिक्षकों से विज्ञान, गणित और अंग्रेजी के विषय से संबंधित अधिक प्रश्न पूछे जाएंगे। ऐसे में अब शिक्षक की बौद्धिक क्षमता पर निर्भर करता है कि स्कूलों को मान्यता मिलेगी या नहीं।