" /> घुसपैठ की ताक में आतंकी?, सुरक्षा अधिकारी बोले बड़े हमलों की ताक में हैं आतंकी

घुसपैठ की ताक में आतंकी?, सुरक्षा अधिकारी बोले बड़े हमलों की ताक में हैं आतंकी

सच में क्या कश्मीर में आनेवाले दिन अशांत होने जा रहे हैं? इसके प्रति वे सुरक्षा अधिकारी चौंका रहे हैं जो यह रहस्योदघाटन कर रहे हैं कि एलओसी से सटे कश्मीर के कई इलाकों में पिछले कुछ दिनों के दौरान बीसियों आतंकी घुस चुके हैं, जो बड़े हमलों की ताक में हैं। ऐसी सूचनाओं के बाद कश्मीर के एलओसी से सटे दर्जनों इलाकों में सघन तलाशी अभियान छेड़े गए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक 30 से 35 आतंकियों के हंदवाड़ा में ही होने की सूचना मिली है जिनकी तलाश में सेना की आरआर बटालियन और स्थानीय पुलिस ने तलाश आरंभ की है। ये सभी लोलाब के जंगलों में शरण लिए हुए हैं जिनके लिए यह कहा जा रहा है कि यह दल हाल ही में उस पार से आया है।

ऐसे ही कई अन्य दलों के बारामुल्ला, उड़ी, टीटवाल आदि के एलओसी पार से इस ओर के जंगलों में घुस आने की खबरें हैं। सुरक्षाधिकारी कहते हैं कि उनकी सूचनाएं पुख्ता हैं और उन इलाकों में भी इन आतंकियों की तलाश में तलाशी अभियान छेड़ा गया है। बताया जाता है कि जिन आतंकियों के दलों की तलाश की जा रही है वे हाल ही के दिनों में कवर फायर के लिए की जानेवाली गोलाबारी का लाभ उठा एलओसी क्रॉस करने में कामयाब रहे थे। फिलहाल सुरक्षा बंदोबस्त के कारण वे अधिक कुछ नहीं कर पा रहे थे पर अब सीमा पार से उन पर बढ़ते दबाव के चलते सुरक्षाधिकारियों को आशंका है कि वे बड़े और खतरनाक हमलों को अंजाम दे सकते हैं।

हंदवाड़ा में तैनात पुलिस अधिकारी कहते हैं कि इलाके में आतंकियों के बड़ी संख्या में मौजूद होने की खबरें मिली हैं और उन्हें घेरा भी जा चुका है। बताया जाता है कि कई स्थानों पर सेना की सहायता से चलाए जा रहे तलाशी अभियानों में सुरक्षाबलों और आतंकियों का आमना-सामना भी हुआ है पर अभी तक इन अभियानों में किसी आतंकी के मारे जाने की खबर नहीं है।

याद रहे हंदवाड़ा में एक भीषण मुठभेड़ में भारतीय सेना को एक कर्नल और एक मेजर रैंक के अधिकारी समेत पांच जवानों की शहादत देनी पड़ी थी तो हंदवाड़ा में ही एक हमले में सीआरपीएफ के 3 जवान शहीद हो गए थे। इन हमलों और मुठभेड़ों के प्रति अधिकारी दावा करते थे कि इनमें ताजा घुसपैठ करनेवाले आतंकी ही शामिल थे।