" /> ड्राइवर का दिमाग पढ़ेगी मर्सिडीज की नई कार!

ड्राइवर का दिमाग पढ़ेगी मर्सिडीज की नई कार!

♦  मस्तिष्क की तरंगों को पकड़ेगा डिवाइस
♦  इंसान और मशीन को मर्ज करना है तकनीकी उद्देश्य

ये जेम्स बॉन्ड के किसी फिल्म की कल्पना नहीं बल्कि हकीकत है। मन के खयालों का कमांड लेनेवाली कार आ चुकी है। मर्सिडीज बेंज ने एक ऐसी कार पेश की है, जिसमें लगा डिवाइस आपके दिमाग की तरंगों को भांप लेता है और उसे इलेक्ट्रिकल सिग्नल में बदलकर कार के कंट्रोल सिस्टम को भेज देता है, इससे कार के कई फंक्शंस मन के कंट्रोल से चलने लगते हैं। मर्सिडीज ने इस विजन अवतार (एवीटीआर) अल्ट्रा हाई-टेक कार को जर्मनी के म्यूनिख में आईएए मोबिलिटी २०२१ शो के दौरान प्रदर्शित किया है।

बीसीआई तकनीक पर आधारित
मर्सिडीज-बेंज की यह कार ‘ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस’ (बीसीआई) तकनीक के आधार पर ड्राइवर की तरह कार चलाने के बारे में सोचता है और कार चलाता भी है। इस कार का मकसद है इंसान और मशीन को मूलरूप से मर्ज करना, ताकि इंसान कार के साथ सहज संपर्क कर सके। बीसीआई तकनीक दिमाग की तरंगों को पढ़ता है और ऑनबोर्ड कंप्यूटर को सिग्नल भेजता है, जिसके आधार पर कंप्यूटर काम करने लगता है।
बिना उंगली चलाए बदलेगा म्यूजिक
बीसीआई तकनीक के जरिए बिना उंगली लगाए कार में म्यूजिक भी बदल जाएगा। यात्री के सिर पर पहने जानेवाले वियरेबल इलेक्ट्रोड्स कार के भीतर किसी को डिस्टर्ब किए बिना काम करने की इजाजत देता है।
डैशबोर्ड पर नजर पड़ी और काम शुरू
ये टेक्नोलॉजी कार में बैठे यूजर के डैशबोर्ड की लाइट पर नजरें डालते ही उसके दिमाग को पढ़ना शुरू कर देती है और सिग्नल मिलते ही पलक झपकते टास्क पूरी कर देती है।
कार डिजाइन के इतिहास में बड़ा कदम
कार डिजाइन के इतिहास में इसे सबसे बड़ा कदम माना जा रहा है। ये कार एडवांस व्हीकल ट्रांसफॉर्मेशन के नए कॉन्सेप्ट पर तैयार की गई है। जर्मन कार अब एक कदम आगे बढ़ गई है और म्यूनिख में बीसीआई मॉडल का अनावरण किया है। फिलहाल, ये तकनीक इस्तेमाल में नहीं लाई जाएगी, लेकिन भविष्य में इसका परीक्षण जरूर किया जा सकता है।

‘अवतार’ फिल्म से ली प्रेरणा
इस कार की प्रेरणा हॉलीवुड मूवी ‘अवतार’ से ली गई है। यही वजह है कि इसका नाम भी विजन अवतार रखा गया है। फिल्म में जिस तरह से न्यूरो इंस्पायर्ड अप्रोच दिखाया गया है ठीक उसी तर्ज पर ये कार हकीकत में तैयार कर लोगों के बीच पेश की गई है।