" /> लीला रामलला की…, मंदिर बनाएगा मालामाल!

लीला रामलला की…, मंदिर बनाएगा मालामाल!

कोरोना महामारी के चलते जहां देशभर में सामान्य व्यवसाय पूरी तरह चौपट हो चुका है और प्रॉपर्टी बाजार में सुस्‍ती छाई हुई है, वहीं एक जगह ऐसी है, जहां प्रॉपर्टी के रेट में जबरदस्त उछाल आया है। यह है भगवान राम की नगरी अयोध्‍या। यहां की तस्‍वीर देश के अन्य हिस्सों के मुकाबले बिल्कुल अलग है। यहां जिसके पास प्रॉपर्टी है, वह उसे बेच मालामाल हो रहा है। गत अगस्‍त में राम मंदिर का भूमिपूजन होने के बाद से महज एक महीने में यहां प्रॉपर्टी के दाम करीब दोगुने हो गए हैं।
मिली जानकारी के अनुसार अयोध्‍या के आसपास के इलाकों में भी प्रॉपर्टी के दाम उछल गए हैं। ये १,०००-१,५०० रुपए वर्ग फीट तक पहुंच गए हैं। बीच शहर में रेट अभी २,००० से ३,००० रुपए वर्ग फीट की रेंज में है। सुप्रीम कोर्ट के पैâसले से पहले कोई आसानी से अयोध्‍या में ९०० रुपए वर्ग फीट में जमीन खरीद सकता था।
जमीन की एकाएक मांग बढ़ने की वजह मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की ओर से कई बड़े इंप्रâास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों का एलान है। उन्‍होंने तीर्थ शहर में ३-स्‍टार होटलों, अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे के साथ इसे ‘भारत का वैटिकन’ बनाने का वादा किया था। वैसे तो अयोध्‍या दशकों से राजनीति के केंद्र में रहा है। लेकिन, शहर में इंप्रâास्‍ट्रक्‍चर की हालत बिल्‍कुल जुदा रही है। नजदीकी होटल पैâजाबाद शहर में ६ किमी दूर है। अयोध्‍या के बाहरी इलाकों में सुविधाओं का भयंकर अभाव है। यहां जमीन के रेट ३००-५०० वर्ग फीट रहे हैं। हालांकि, जमीन की खरीद को लेकर कई तरह की समस्‍याएं भी हैं। एक प्रॉपर्टी एजेंट के अनुसार स्‍थानीय प्राधिकरण ने पहले ही रजिस्‍ट्री की बाध्‍यताएं लगा दी हैं। कई प्रॉपर्टियों के मालिकाना हक पर विवाद है। बिक्री के लिए नामित किए गए ज्‍यादातर प्‍लॉट सरयू के पास हैं। इन पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल की नजर है। दिल्‍ली के एक रियल एस्‍टेट कंसल्‍टेंट के अनुसार अयोध्‍या में जमीन खरीदने के लिए लोगों की दिलचस्‍पी बढ़ना ताज्‍जुब की बात नहीं है। हर कोई, हर आय वर्ग के लोग अब मंदिर शहर में प्रॉपर्टी चाहते हैं। वैसे अवध यूनिवर्सिटी के एग्‍जीक्‍यूटिव काउंसलर ओम प्रकाश सिंह इस भेड़ चाल में शामिल होने से लोगों को सतर्क करते हैं। उन्‍होंने कहा कि शीर्ष नौकरशाह और राजनेता जमीन खरीदने की दौड़ में आगे हैं। बेनामी
प्रॉपर्टियों ने कीमतों को और हवा दी है।