" /> इस सर्दी एलएसी पर होगी गोलियों की गर्मी!

इस सर्दी एलएसी पर होगी गोलियों की गर्मी!

♦ चिकन नेक पर है चीन की बुरी नजर
♦ ठंड के दिनों में लड़ने की है तैयारी
♦ युद्धाभ्यासों के कई वीडियो अपलोड हुए
♦  लद्दाख से तवांग तक कर सकता है कब्जा

चीन अपनी विस्तारवादी नीति को अब अमलीजामा पहनाने की तैयारी में दिख रहा है। यदि सोशल मीडिया पर उपलब्ध संदेशों, फोटो और वीडियो पर यकीन करें तो एलएसी पर इस सर्दी में गोलियों की गर्मी से चीन परेशान करनेवाला है। चीनी सैनिकों द्वारा हिंदुस्थानी सीमाओं में घुसपैठ की स्थिति देखते हुए साफतौर पर कहा जा सकता है कि हिंदुस्थान और चीन के बीच एलएसी पर जबरदस्त टकराव होनेवाला है। यह टकराव अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख सीमा पर हो सकता है। इसके अलावा सिलीगुड़ी कॉरिडोर अर्थात चिकन नेक पर भी चीन की बुरी नजर है। गौरतलब है कि सर्दी के मौसम में चीनी सैनिक अक्सर पीछे हट जाते रहे हैं लेकिन इस बार चीन पूरी तरह से लड़ाई की तैयारी में है। दरअसल ट्विटर आदि सोशल मीडिया पर चीनी सेना के युद्धाभ्यासों के कई वीडियो हाल ही में अपलोड हुए हैं। इनमें लाल सेना की ताकत का गुणगान करते हुए कहा जा रहा है कि चीनी सेना लद्दाख से लेकर तवांग तक के उन सभी इलाकों को इन सर्दियों में हिंदुस्थानी सेना से खाली करवा लेगी, जिन पर उसने पिछले २० सालों से कब्जा कर रखा है।
१० से अधिक सेना के ब्रिगेड पहुंचे
कई चीनी वेबसाइटें भी इसके प्रति दावा करने से पीछे नहीं हटती कि करीब १० से अधिक चीनी सेना के ब्रिगेड एलएसी पर अत्याधुनिक और हिंदुस्थानी सेना को चौंका देनेवाले हथियारों के साथ कूच कर गए हैं
और वे एलएसी पर उन स्थानों पर काबिज हो जाएंगें, जहां अक्सर हिंदुस्थानी सेना पहले पहुंच जाती है।
सेनाध्यक्ष भी कर चुके हैं पुष्टि
अगर इन संदेशों, फोटो, वीडियो और वेबसाइटों पर लिखे जा रहे लेखों को ध्यान से पढ़ें और देखें तो यह सब मनोवैज्ञानिक युद्ध का ही हिस्सा है। यही नहीं चीन समर्थकों ने इस प्रोपोगेंडा के तहत अब सोशल मीडिया पर गलवान वैली की झड़पों की उन तस्वीरों की भी बाढ़ ला दी है, जिनमें कथित तौर पर चीनी सेना ने हिंदुस्थानी जवानों को बंधक बना कर रखा था। हालांकि हिंदुस्थानी सेना को यह आशंका है कि चीनी सेना इन सर्दियों में भी लद्दाख सीमा से नहीं हटेगी और वह इस बार आक्रामक मूड में है। इसकी पुष्टि हिंदुस्थानी सेनाध्यक्ष भी कर चुके हैं।

पाकिस्तानी कमांडो की फायरिंग में मछुआरे की मौत
पालघर। पाकिस्तानी नौसेना द्वारा कल एक भारतीय नाव पर फायरिंग करने की घटना में एक मछुआरे की मौत हो गई है। गुजरात तट के पास हुई गोलीबारी में पाक मरीन ने ६ मछुआरों का अपहरण भी कर लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक घटना में पालघर के वड़रई गांव के निवासी श्रीधर रमेश चामरे (३२) को तीन गोलियां लगने से जगह पर मौत हो गई, जबकि फायरिंग में नाव का वैâप्टन जख्मी है। बोट मालिक जयंती भाई ने बताया कि वैâप्टन को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया। घटना उस समय हुई जब गुजरात में द्वारका के नजदीक ओखा के पास भारतीय मछुआरे भारतीय समुद्री एरिया में मछली पकड़ने गए हुए थे।
उसी दौरान पाकिस्तानी मरीन कंमाडो की बोट वहां से निकली और उन्होंने भारतीय बोट जिसका नाम `जलपरी’ था, उस पर फायरिंग कर दी। फिलहाल इस मामले की तफ्तीश नेवी और कोस्ट के अलावा सुरक्षा एजेंसियों के द्वारा की जा रही है। पाकिस्तान की इस हरकत के बाद दोनों देशों के रिश्तों में फिर तनाव देखने को मिल सकता है।