" /> स्पेशल रेल सफर के बाद लक्षण दिखा तो अस्पताल वर्ना 14 दिन होम क्वारंटाइन

स्पेशल रेल सफर के बाद लक्षण दिखा तो अस्पताल वर्ना 14 दिन होम क्वारंटाइन

सफर के बाद भी होगी मेडिकल जांच
दिल्ली से मुंबई के बीच रेलवे इस दिनों स्पेशल ट्रेन चला रही है। सफर से पहले यात्रियों की स्टेशन के एंट्री पॉइंट पर थर्मल क्रेनिंग की जा रही है। उसके बाद ही उन्हें सफर करने की अनुमति रेलवे दे रही है। जांच के दौरान यदि किसी यात्री में कोरोना के लक्षण या फिर बुखार दिखाई देता है तो रेलवे उसे सफर करने की अनुमति नहीं दे रही है। हालांकि अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचने के बाद उसे 14 दिन होम क्वारंटाइन होना होगा।

जानकारी के मुताबिक रेलवे इन दिनों 15 जोड़ी ट्रेन स्पेशल ट्रेन चला रही है। इसमें से दिल्ली से मुंबई के लिए भी रोजाना एक स्पेशल ट्रेन चल रही है। रेलवे के दिशा निर्देश के अनुसार सफर करने से पहले यात्री की स्टेशन के एंट्री पॉइंट पर थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। उसके बाद ही रेलवे सफर करने की अनुमति यात्री को दे रही है। थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान यदि किसी यात्री को बुखार या फिर कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं तो टिकट होने के बावजूद उसे सफर करने की अनुमति नही दी जा रही है। सफर की अनुमति केवल उन्हीं यात्री को मिल रही है जो पूरी तरह से स्वास्थ हैं। ठीक यही प्रक्रिया से यात्रियों को सफर के बाद मुंबई पहुंचने पर भी गुजरना होगा। दिल्ली से मुंबई के सफर के दौरान जब यात्री मुंबई पहुंचेंगे तो उनकी मुंबई के रेलवे स्टेशन पर दोबारा थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। यदि किसी यात्री में कोरोना के लक्षण या फिर बुखार दिखाई देता है तो पहले रेलवे के मेडिकल एक्सपर्ट यात्री की जांच करेंगे। जांच के दौरान यदि ऐसा लगता है कि यात्री में कोरोना के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो रेलवे इसकी सूचना राज्य सरकार को देगी। राज्य सरकार की मेडिकल टीम द्वारा जांच करने पर यह तय किया जाएगा कि यात्री को अस्पताल में भर्ती करना है या फिर होम क्वारंटाइन से काम चल जाएगा। वहीं जिन यात्रियों में ऐसे कोई लक्षण नही दिखाई देते हैं तो 14 घंटे के सफर के बाद उन्हें घर जाने की अनुमति तो मिल जाएगी लेकिन उस यात्री को 14 दिन होम क्वारंटाइन होना अनिवार्य होगा। ऐसी जानकारी मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने दी।