भाजपा विधायक टिकटों का टशन!

लोकसभा चुनाव में भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। विधानसभा चुनाव भी नजदीक ही हैं और उसके लिए टिकटों का टशन भी शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तक ने महाराष्ट्र की ४८ लोकसभा सीटों पर महायुति के उम्मीदवार जीतकर आने चाहिए, इसके लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को दिशा निर्देश भी अमित शाह की ओर से दिया गया था। बताया जाता है कि शाह के निर्देशानुसार देवेंद्र फडणवीस ने भाजपा के विधायकों, नगरसेवकों से लेकर सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया था कि पूरी ताकत से लोकसभा चुनाव में लग जाओ, जिससे अधिक से अधिक महायुति के उम्मीदवार चुनाव जीतकर आएं। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक कौन सा विधायक अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में महायुति के उम्मीदवार के लिए कितना काम किया है। कौन सा नगरसेवक अपने प्रभाग में कितना काम किया है। भाजपा विधायक के निर्वाचन क्षेत्र में महायुति के उम्मीदवार को कितना मत मिला, भाजपा विधायक को कितना मत मिला था। इन सभी बातों की समीक्षा २३ मई को लोकसभा चुनाव का परिणाम आने के बाद की जाएगी। जिन भाजपा विधायक के चुनाव क्षेत्र से महायुति के लोकसभा उम्मीदवार को कम मत मिले हैं। उस विधायक का पर आगामी विधानसभा में कतर दिया जाएगा। यानी उस भाजपा विधायक को टिकट नहीं दिया जाएगा, भाजपा के वरिष्ठ नेता का दावा है कि पार्टी का चाहे कितना भी वरिष्ठ विधायक हो अगर उसके निर्वाचन क्षेत्र से महायुति के उम्मीदवार को कम मत पड़े हैं, उसका टिकट कटना तय है। हालांकि भाजपा नेता का यह भी कहना था कि विधायकों को सफाई देने का मौका दिया जाएगा, परंतु कम मत पड़ने के कारण उक्त क्षेत्र से वह विधायक भी आगामी चुनाव हार सकता है इसलिए उसका टिकट काट दिया जाएगा।