ट्रांस हार्बर लिंक लेने लगा आकार : १४ फीसदी काम हुआ पूरा

मुंबई को नई मुंबई से जोड़नेवाली ट्रांस हार्बर लिंक परियोजना के निर्माणकार्य की रफ्तार बढ़ गई और धीरे-धीरे इस परियोजना ने आकार लेना शुरू कर दिया है। ट्रांस हार्बर लिंक परियोजना का १४ फीसदी काम अब तक पूरा हो चुका है। ३ चरणों में हो रहे इस परियोजना के निर्माणकार्य में से १०.४ किमी के पहले ब्रिज निर्माण का कार्य १५ फीसदी पूरा हो चुका है जबकि ७.८ किमी लंबे ब्रिज का १२ फीसदी और ३.८ किमी ब्रिज सहित डेक का निर्माण कार्य ११ फीसदी पूरा हो चुका है।
 २० मिनट में सफर होगा तय
मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक परियोजना को शिवड़ी-न्हावा शेवा ट्रांस हार्बर लाइन भी कहा जाता है। इस परियोजना के पूरा हो जाने से डेढ़ से दो घंटे का सफर करीब १५ से २० मिनट में तय कर पाना संभव होगा। इस परियोजना के लिए पुलों को जिस तरह से डिजाइन किया गया है, उसके हिसाब से इस कॉरिडोर पर कार १०० किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ पाएगी। इस परियोजना के अंतर्गत वाहनों के आवागमन के लिए कुल ६ लेन तैयार किए जाएंगे जबकि एक अतिरिक्त लेन आपातकालीन व्यवस्था के लिए होगा।
 समंदर में होगा १६.५ किमी का हिस्सा
एमएमआरडीए १७,८४३ करोड़ रुपए की लागत से २२ किलोमीटर लंबा ट्रांसहार्बर लिंक प्रोजेक्ट का निर्माण कर रही है। २२ किलोमीटर लंबे प्रोजेक्ट का १६.५ किलोमीटर हिस्सा समंदर में पुल के रूप में होगा जबकि ५.५ किलोमीटर जमीन पर होगा। एमएमआरडीए ने मार्च २०१८ में प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य की शुरुआत तीन चरणों में की थी।
 मुंबई से पुणे का सफर भी होगा आसान
ट्रांस हार्बर लिंक के जरिए मुंबईकर नई मुंबई के साथ पुणे एक्सप्रेस वे और नई मुंबई में बन रहे एयरपोर्ट पर भी आसानी से पहुंच पाएंगे। मुंबई से रोजाना हजारों की संख्या में वाहन नई मुंबई व पुणे की ओर रवाना होते हैं। इसके बन जाने से पुणे का सफर भी आसान होगा।