" /> ट्रंप हारे तो होगा ९/११, बोली लादेन की भतीजी

ट्रंप हारे तो होगा ९/११, बोली लादेन की भतीजी

कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच अमेरिका में राष्ट्रपति का चुनाव नजदीक आता जा रहा है। वहां वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व जो बिडेन में जोरदार मुकाबला है। इसी बीच दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकवादी के रूप में कुख्यात रहे अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन की भतीजी ने कहा है कि अगर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव हार गए तो अमेरिका में ९/११ जैसा हमला फिर हो सकता है। लादेन की इस भतीजी का नाम नूर बिन लादिन है और उसने यह बात ट्रंप के समर्थन में कही है।
नूर लादेन का कहना है कि अमेरिका की सुरक्षा जो बिडेन नहीं, बल्कि सिर्फ और सिर्फ डोनाल्ड ट्रंप ही कर सकते हैं। नूर बिन लादेन ने एक इंटरव्यू में चेतावनी देते हुए कहा कि अमेरिका को वामपंथी सरकार की जरूरत नहीं है। जो बिडेन पर निशाना साधते हुए नूर लादेन ने कहा कि बिडेन की सरकार आएगी तो उससे नस्लीय भेदभाव को बढ़ावा मिलेगा। वह अमेरिका की सुरक्षा नहीं कर पाएंगे। इस काम के लिए डोनाल्ड ट्रंप ही सही व्यक्ति हैं। नूर लादेन ने कहा कि ट्रंप से पहले ओबामा की सरकार थी। उस समय बराक ओबामा और जो बिडेन मिलकर सरकार नहीं चला पा रहे थे। उस समय ये दोनों मिलकर एक वामपंथी सरकार चला रहे थे। इनके कार्यकाल में ही आइसिस का दुनियाभर में विस्तार हुआ और वो यूरोप तक पहुंच गया। अपने चाचा की बदनामी की वजह से नूर बिन लादेन ने अपना नाम बदल कर नूर बिन लादिन कर लिया है। नूर ने बताया कि वह ट्रंप का समर्थन इसलिए करती हैं क्योंकि ट्रंप के शासन में अमेरिका सुरक्षित है। क्योंकि ट्रंप सरकार ने देश को बाहरी खतरों से बचाया है। नूर ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवाद की जड़ पर हमला किया है। ट्रंप को फिर से इसलिए भी चुनाव जीतना चाहिए क्योंकि उनकी सरकार न सिर्फ अमेरिका, बल्कि समूचे पश्चिमी सभ्यता को बचाने के लिए जरूरी है। आपको बता दें कि दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी ओसामा बिन लादेन को ओबामा के शासन में मार गिराया गया था। उस समय अमेरिका के उप राष्ट्रपति पद पर जो बिडेन थे, जो मौजूदा समय में राष्ट्रपति पद पर डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार हैं।