" /> गणपति बाप्पा मोरया घर से दो विदाई!, मनपा स्वीकारेगी गेट पर मूर्ति

गणपति बाप्पा मोरया घर से दो विदाई!, मनपा स्वीकारेगी गेट पर मूर्ति

कोरोना महामारी को देखते हुए इस वर्ष मुंबई में शोभायात्रा और विसर्जन स्थल पर आरती करने पर प्रतिबंध होने की बात मनपा ने स्पष्ट की है। मंडलों और घरेलू गणेश मूर्ति के विसर्जन के लिए कृत्रिम तालाब की संख्या बढ़ाई गई है। इसके अलावा मूर्ति विसर्जन के लिए मनपा के वाहन सोसायटियों के गेट पर ही भक्तों से मूर्ति स्वीकारेंगे। इसके चलते भक्तों को अब गणपति बाप्पा मोरया इस जयघोष के बीच घर से ही बाप्पा को विदाई देनी होगी।
मुंबई में भले ही कोरोना नियंत्रण में आ गया है लेकिन गणेशोत्सव में भीड़ से कोरोना के खतरे को नकारा नहीं जा सकता। इसके लिए मनपा ने अभी से ही कड़ी उपाय योजना शुरू कर दी है। मूर्ति विसर्जन के समय भीड़ को टालने के लिए मनपा ने इस बार कृत्रिम तालाबों की संख्या में पांच गुना वृद्धि की है। मनपा उपायुक्त और गणेशोत्सव समन्वयक नरेंद्र बर्डे ने बताया कि इस बार १७० कृत्रिम तालाब की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा सील इमारतों और कंटेनमेंट जोन की मूर्तियों का विसर्जन प्रतिबंधित क्षेत्रों में ही करने की व्यवस्था की गई है।
अब तक ४५१ मंडलों को अनुमति
२२ अगस्त से गणेशोत्सव शुरू हो रहा है। मुंबई में अभी तक गणेशोत्सव मनाने के लिए १,०४३ आवेदन आए हैं। इसमें से १५८ आवेदन डबल हैं। शर्तों का पालन करनेवाले ८८५ में से ४५१ मंडलों को अनुमति दी गई है, ५२ आवेदन खारिज किए गए हैं।
मनपा का करें सहयोग
कोरोना महामारी को देखते हुए भीड़ टालने के लिए १७० कृत्रिम तालाब की व्यवस्था की गई है। भीड़ को टालने के लिए मुंबईकर मनपा का सहयोग करें। ऐसी अपील मनपा उपायुक्त नरेंद्र बर्डे ने की है।