" /> कोरोना के लिए राज्य में बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सुविधाओं का निर्माण! – मुख्यमंत्री

कोरोना के लिए राज्य में बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सुविधाओं का निर्माण! – मुख्यमंत्री

-हिंजवडी स्थित कोविड स्वास्थ्य केंद्र की ऑनलाइन शुरुआत

कोरोना की लड़ाई को तीन महीने हो रहे हैं। इस अवधि में राज्य में भारी संख्या में सुविधाओं का निर्माण हो रहा है। यह बात कल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कही। पुणे जिला परिषद, जिला स्वास्थ्य सोसायटी, राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान व विप्रो कंपनी के संयुक्त तत्वावधान में बनाए गए कोविड स्वास्थ्य केंद्र का कल ऑनलाइन पद्धति ने हस्तांतरण समारोह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हाथों संपन्न हुआ। इस अवसर पर मुख्यमंत्री बोल रहे थे। उपमुख्‍यमंत्री व पुणे जिला के पालकमंत्री अजित पवार ने उक्त उद्घाटन समारोह को शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री राजेश टोपे, सांसद सुप्रिया सुळे, विप्रो लिमिटेड के अध्यक्ष रिशाद प्रेमजी, पुणे के राजीव गांधी इन्फोटेक पार्क स्थित स्वास्थ्य केंद्र के जिला परिषद अध्यक्षा निर्मला पानसरे, विभागीय आयुक्त डॉ. दिपक म्हैसेकर, पीएमआरडीए के आयुक्त विक्रम कुमार, जिलाधिकारी नवलकिशोर राम, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आयुष प्रसाद, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी भारत शेंडगे, जिला शल्य चिकित्सक डॉ.अशोक नांदापुरकर, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.भगवान पवार, विप्रो के उपाध्यक्ष हरिप्रसाद हेगडे, पूर्व सांसद शिवाजीराव आढळराव पाटील, जिला परिषद उपाध्यक्ष रणजीत शिवतारे, जिला परिषद सभापति प्रमोद काकडे आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर, मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि पहला कोरोना रोगी पाया गया था, तब से हम आज स्थिति को सुधारने में एक लंबा सफर तय करते हुए आगे जा चुके हैं। राज्य में शुरू में केवल दो परीक्षण केंद्र थे। आज 80 से अधिक परीक्षण केंद्र स्थापित किए गए हैं। जल्द ही यह संख्या 100 के पार चली जाएगी। कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लिए नया है। उन्होंने कहा कि एक सकारात्मक बात है कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ते हुए समय पर सुविधाओं का निर्माण कर पाए हैं और हम इसमें सफल हो रहे हैं। शुरू में हमारे पास 350 आइसोलेशन बेड थे। वर्तमान में सभी बेड पर्याप्त मात्रा में आईसीयू, आइसोलेशन, ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं। विप्रो अस्पताल के मुद्दे पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी विशेषता यह थी कि विप्रो कंपनी मानकों के साथ किसी प्रकार का समझौता नहीं करती। तदनुसार, विप्रो द्वारा एक बहुत ही उच्च गुणवत्ता और अच्छी तरह से सुसज्जित अस्पताल स्थापित किया गया है। उन्होंने इसके लिए विप्रो की सभी टीम को अभिनन्दन किए।
कोरोना वायरस गुणाकार बढ़ता है, इसलिए हम सभी को आत्म-अनुशासित होने की आवश्यकता है। पूरी दुनिया के पास तालाबंदी के अलावा कोई विकल्प नहीं है। कोरोना के साथ रहते हुए नागरिकों को आत्म-अनुशासित होना पड़ता है। विप्रो ने कोरोना रोगियों के इलाज के लिए एक अत्याधुनिक अस्पताल स्थापित किया है और निश्चित रूप से भविष्य में कोरोना रोगियों के ठीक होने में इसका उपयोग किया जाएगा। ऐसा विश्वास मुख्यमंत्री ने व्यक्त किया। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि विप्रो के सहयोग से अत्याधुनिक अतिशय सुंदर अस्पताल तैयार हुआ है। सरकार की ओर से 1 करोड़ 32 लाख की निधी उपलब्ध कराई गई है। इस मौके पर विप्रो के अध्यक्ष रिशाद प्रेमजी ने कहा, “मानवता की भावना से हम न केवल राज्य में बल्कि देश में भी गरीब व बेरोजगारों को भोजन और चिकित्सा देखभाल प्रदान करने का प्रयास कर रहे हैं।” पुणे जिले की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए, उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में रोगियों के लिए एक समर्पित कोविद केयर अस्पताल बनाने की तत्परता व्यक्त की। उन्होंने सकारात्मक प्रतिसाद देने के लिए सरकार को धन्यवाद दिया। कोरोना के कारण स्वास्थ्य और वित्तीय समस्याएं निर्माण हुई हैं। हम सभी मिलकर उन्हें मात करेंगे, ऐसा विश्वास उन्होंने व्यक्त किया। इस अवसर पर अन्य सदस्यों ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किए।

विप्रो कंपनी द्वारा दी गई सुविधाएं
अस्पताल की इमारत
कुल बेड की क्षमता – ५०४, अतिदक्षता विभाग में १० बेड और ५ वेंटीलेटर की सुविधा
डीफेलटर मशीन – ०5 ई.सी.जी. मशीन ०१
ए.बी.जी. मशीन – ०१ के अलावा विप्रो कंपनी के मार्फत अस्पताल में मनोरंजन के लिए प्रत्येक वार्ड में एक टी वी, कैरम बोर्ड, बुद्धिबल मासिक व वर्तमान पत्र व्यवस्था की गई है। इसके अलावा कई अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं।